26 September 2010

Why religious places, why not education - धार्मिक जगह क्यों, शिक्षा क्यों नहीं

भारत के जातिवाद की शिकार ग़रीब जातियों को धर्म ने भी शोषित किया है. धार्मिक और सामाजिक रीति-रिवाज़ इनके हाथों से धन खीचते रहते हैं. इसके लिए कई तरीके अपनाए जाते हैं, जैसे 1. यह प्रचार कि धार्मिक स्थल पर जाने से ही मनोकामनाएँ पूरी होती हैं, 2. यह प्रचार कि यह विशेष धार्मिक स्थल समतावादी समाज का निर्माण करेगा, 3. यह प्रचार कि यही डेरा मानवतावादी है, 5. यह अनुष्ठान न करने से पूर्वजों को कष्ट होगा, 6. यह यज्ञ करने से पवित्रता आएगी, 7. यह दान देने से यश और समृद्धि प्राप्त होगी आदि. यह किसी का व्यवसाय हो सकता है. आप उसमें मदद कर सकते हैं परंतु शोषण के प्रति होशियार रह कर.

धर्म या संप्रदाय के झंडे पर ऐसे आकर्षक और संकेतात्मक नारे लिख दिए जाते हैं कि ग़रीब जातियों के लोग किसी आशा में आकर्षित हो जाते हैं. अंतिम परिणाम वही- आर्थिक शोषण. चढ़ावा चढ़ाओ, मन्नत माँगो और घर चले जाओ. मन्नत तो घर पर भी माँगी जा सकती है. लोगों का अनुभव है कि धार्मिक जगहों पर की गई सभी मनोकामनाएँ पूरी नहीं होतीं. मनोकामना वह भी पूरी हो जाती है जो गली या पार्क में की जाए, वह भी बिना पैसा-प्रसाद चढ़ाए.

इधर धार्मिक स्थल इतने बना दिए गए हैं कि राह चलते सिर से टकराते हैं. एक सावधानी बरती जा सकती है कि जैसे ही धर्म स्थल सामने आए उसी समय अपने बच्चों की शिक्षा और उन्नति का ध्यान करें और अपनी मेहनत का पैसा उनकी शिक्षा पर व्यय करें. बच्चों को अच्छी शिक्षा देना देशभक्ति है, पूजा का बेहतर स्वरूप है. हालाँकि इस भक्ति (शिक्षा) को मँहगा किया जा रहा है जो ग़रीब जातियों के विरुद्ध षड्यंत्र से कम नहीं है. हम मिलकर प्रार्थना कर सकते हैं कि ईश्वर उनका भला करे.

Other links from this blog








MEGHnet

25 September 2010

Baba Faqir Chand - Key to Religion

People are running from place to place in search of happiness and peace. Make a sincere search for your ideal within you. Enjoy the bliss after finding your ideal from within. This is the teaching of Santmat. Why you run to various directions? Everything is within you. I have revealed its secret to you in very simple words. You dwell in Him and He dwells in you. You can behold Him in any form you love, such as a son, brother or husband. His form within depends upon your intention and wish. But unfortunately nobody speaks the truth to you.

खुशी और शांति की तलाश में लोग यहाँ-वहाँ भाग रहे हैं. अपने इष्ट की सच्ची तलाश अपने अंतर में करो. अपने इष्ट को अंतर में ढूँढ कर आनंद लो. यही संतमत की शिक्षा है. क्यों इधर-उधर भागते फिरते हो? सब कुछ तुम्हारे अंतर में है. मैंने आसान लफ़्ज़ों में यह राज़ तुम को बता दिया है. तुम उसमें रहते हो, वह तुम में रहता है. तुम उसे जिस रूप में प्रेम करते हो उसी रूप में उसे देखते हो जैसे बेटा, भाई या ख़ाविंद (पति). उसका रूप वैसा होता है जैसी तुम्हारी नीयत और चाह होती है. लेकिन बदकिस्मती कह लो कि कोई तुम्हें सच्चाई नहीं बताता.

(From: Jeevan Mukti)

MEGHnet

18 September 2010

Maheswari Meghwar- The first lady Police Ofificer - महेश्वरी मेघवार की प्रथम महिला पुलिस अधिकारी

हमें यह जानकर बहुत हर्ष हुआ है कि कुमारी हंसाबेन वालजीभाई धेला ने महेश्वरी मेघवार समाज में प्रथम पुलिस सब-इन्स्पेक्टर बनने का गौरव हासिल किया है. उन्होंने यह सफलता गुजरात राज्य की पुलिस स्पर्धात्मक परीक्षा पास करके हासिल की है. महेशपंथी वेबसाईट, मेघनेट, भगत महासभा तथा महेश्वरी युवा महासंघ, कुमारी हंसाबेन वालजीभाई धेला का शत-शत अभिनंदन करता है. हंसाबेन भुज तालुका के कुर्बाइ गाँव की रहने वाली हैं. टेलेफोनिक बातचीत में उन्होंने  अभिनंदन स्वीकार करते हए अपनी असीम खुशी व्यक्त की है.
फिर एक बार हंसाबेन को शत-शत अभिनंदन. धणी मातंग देव की कृपा से वे  उत्तरोत्तर प्रगति के शिखरों पर पहुँचें इसके लिए  शुभकामनाएँ.

'महेश्वरी समाज' वेबसाइईट के साभार

MEGHnet

Meveli belongs to India and Meghvansh


I received few phone calls from N.Delhi, Indore, Jaipur and other places. None of the callers questioned relationship of Maveli and Meghvansh (Maveli belongs to Meghvansh) rather they were aware of it. The Balijan Cultural Movement retells the mythical story of King Mahabali. Mr. Mohan Devraj Thontyal, a research scholar from Pakistan who has done his research on Origins of Meghwars and Megh Rikh, observes that:-
“I am delighted to read the article Maveli or Mahabali and the subsequent article about the festival Onam. Perhaps one can agree with the historical point that one ancient tradition is often told by the people of different regions of India into the different versions for instance, the epics Ramayana and Mahabharata and their several versions. In case of Raja Bali, I found a tradition in the Meghwar origin story (Book Megh Mahayatamaya in Gujarati authored by Nathguru Jivannathji) where Raja Bali has been shown interacting with Rishi Shringya and Megh Dharu.
To my own opinion Vamansthali or the present Vanthali (a modern town in Gujarat state) should have been the royal seat of Raja Bali, where the Incarnation Waman is said to have pressed down the king into the earth, later the place came to be known after the name of Waman Dev. However the further research in this regard is yet to be done. The tradition of Raja Bali might have been received in the certain period of time by the South Indian region with more exhilaration. (15 September 2010 18:59)”
In this context we find King Mahabali’s presence in Gujrat region as well. The stories may differ as they have been distorted sometimes even beyond recognition. I asked all the callers whether they were inclined to celebrate Onam festival in respect of Mahabali. The response was positive. Then I suggested them an Onam festival which is without other symbolic items like Pulikali (lion dance) that has a non-contextual image of another distorted story. Secondly, on Onam, so far as possible, this can be ensured that only such goods and products are used which are produced by Meghvanshis especially the poor one. On this occasion we may use candles rather than electric lighting. It can do wonders. There is some activity in Balai community after this suggestion.

11 September 2010

Bali Island may have a regard to King Bali (राजा बली)

An idea occurred to me whether Bali island of Indonesia had anything to do with King Bali. I wrote a post and asked my non responding readers to give a clue, if they had. After posting I had restless hours. I again got up and started searching on the net. Wikipedia is a wonderful reference aggregator. Soon I could see articles like Bali Island, Balinese mythology, Balinese people, Shiva, Bali aga, Takshaka leading to Kurukshetra, Hinduism in Indonesia and its subhead Hinduism in Bali. There were many other relevant links and inter-links and an article ‘Onam – a festival of Exuberance’. For the time being I have stopped my search. Many more investigations are required. Anyhow, you may read this article for the above point. à Onam – a festival of Exuberance


MEGHnet

Megh Vandana - मेघ वंदना

(प्रत्येक व्यक्ति अपनी, समाज की और देश की उन्नति के लिए किसी को इष्ट बना कर प्रार्थना करता है. ऐसी कुछ प्रार्थनाएँ मेघनेट पर पहले से उपलब्ध हैं. मेघ चेतना पत्रिका के दूसरे अंक में श्री यशपाल भगत, आई.ई.एस. की लिखी एक प्रार्थना मिली. इसे मेघनेट पर संभाल लेना चाहता हूँ. यदि आपकी जानकारी में ऐसी अन्य रचनाएँ हों तो कृपया संपर्क करें. ऐसी रचनाओं का एक लिंक इसी ब्लॉग पर Must Visit के नीचे हमारी प्रार्थनाएँ शीर्षक से बना दिया गया है. ये कभी पुस्तकाकार हो कर हमारा मार्ग प्रशस्त करेंगी. साहित्य हमारा हित करता है. प्रार्थनाएँ हमारा भविष्य बनाती हैं.)
   
हे मालिक! ईश्वर, मेरे ख़ुदा।
तेरे चरणों में सजदा करें हम सदा।

हाथ जोड़ करें मेघ यह विनती।
सरबत का भला सब की हो उन्नति।
हर बुराई को कह दें हम अलविदा।
हे मालिक, ईश्वर, मेरे ख़ुदा।

दीन दुखियों को, उठने की दो हिम्मत।
तेरी रहमत से दुनिया बने जन्नत।
हो सच्चाई हमारी सदा संपदा।
हे मालिक, ईश्वर, मेरे ख़ुदा।

बूँद बन कर गिरें, हम मोती बनें।
बुझ न पाए जो वह मेघ ज्योति बनें।
हक़ के लिए सब कुछ कर दें फ़िदा।
हे मालिक, ईश्वर, मेरे ख़ुदा।

सप्त सिंधु के मेघों को वरदान दो।
जो वतन पर मिटे ऐसी संतान दो।
शान से हम जिएँ हो ऐसी अदा।
हे मालिक, ईश्वर, मेरे ख़ुदा।

                यशपाल भगत
                साभार: मेघ चेतना


MEGHnet

10 September 2010

A question haunts me

Can somebody throw some light on the subject whether the Indonesian island Bali has something to do with Raja Bali? Any clues?


Linked to MEGHnet

06 September 2010

Megh Chetna - 'मेघ चेतना'



किसी समुदाय के इतिहास में उसका साहित्य एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. उसकी पत्रिकाएँ, समाचार-पत्र, न्यूज़लेटर, इश्तेहार और ब्लॉग भी अपनी भूमिका रखते हैं. हालाँकि प्रकाशित साहित्य हाथ पर रखी चीज़ की तरह है और इंटरनेट पर रखा साहित्य आम आदमी के लिए कभी-कभार देखने की वस्तु है. आगे यह स्थिति बदल जाएगी.

यशपाल जी ने मेरे कहने पर मेघ चेतना’ के शुरूआती दो अंक भेजने की कृपा की. यह पत्रिका निरंतर प्रकाशित हो रही है. मुझे लगा कि इसे सब की जानकारी के लिए सहेज लिया जाए. मैंने मेघवंश पर सामग्री एकत्र करने के सिलसिले में कई जगह संपर्क साधा. अधिकतर जगहों से मेघ चेतना के बारे में पूछा गया. इससे स्पष्ट था कि पत्रिका के संपादक मंडल और इससे जुड़े अन्य ने इसे न केवल दूर तक भेजा बल्कि सजीव बनाए रखा है.

दिसंबर 2000 में छपे इसके प्रथम अंक की कुछ विशेषताओं का उल्लेख करना प्रासंगिक होगा. मेघ चेतना के प्रथम मुख्य संपादक श्री ज्ञान चंद, आई.ए.एस. थे. इसका संपादकीय मेघदूत के नाम से लिखा गया था. इसमें कर्नल तिलक राज के ग़ज़ल संग्रह ज़ख़्म खिलने को हैं’ से बहुत अच्छी ग़ज़लें छापी गईं. एक ग़ज़ल के दो शेर नीचे दिए गए हैं:-

अम्न का फिर खोखला नारा लगाया जाएगा
दोस्ती की आड़ में ख़ंजर चलाया जाएगा

फिर से भर दी जाएगी सरहद की ख़ामोशी में आग
फिर से समझौतों को आपस में भुलाया जाएगा

मेघ चेतना के पहले ही अंक में एक बहुत महत्वपूर्ण लेख श्री यशपाल का था जिसमें स्वयं सहायता समूह बनाने और उसके महत्व पर प्रकाश डाला गया था. यह उस समय की ज़रूरत थी. विडंबना यह है कि आज सन् 2010 तक जम्मू-कश्मीर, पंजाब और हरियाणा में इस दिशा कुछ भी महत्व का किया गया दिखाई नहीं देता.
इस पत्रिका का दूसरा अंक चित्रों और रचनाओं के साथ बेहतरीन तरीके से सुसज्जित था. इसमें अच्छी रचनाओं और लेखों को शामिल किया गया था. इसके बावजूद रचनाओं और रचनाकारों की सीमाएँ स्पष्ट थीं. शायद इसीलिए आगे चल कर इसे मासिक पत्रिका के बजाय त्रैमासिक करना पड़ा. तथापि यह पत्रिका अब नए रूप और गेटअप में छप रही है. इस पत्रिका ने कई विकासात्मक, समाजोपयोगी, व्यक्ति विकास, राजनीतिक जागरूकता, मेघ समुदाय की महत्वपूर्ण गतिविधियों संबंधी विषयों पर लेख प्रकाशित किए हैं. इस पत्रिका ने अपनी एक मैट्रिमोनियल सेवा भी शुरू की. यह कहना उचित होगा कि इसने मेघ समाज के मानस को प्रभावित किया है.



इसका 2005 का और लगभग आज का स्वरूप आप यहाँ देख सकते हैं à मेघ चेतना

Balijan (बलिजन) Cultural Movement

Recently I had written a post regarding Meveli and Onam. Now I got some additional information through further search.
Folk culture never dies. It forms basis for many religions, schools of thoughts, political thoughts etc. The myth of King Bali has survived with two images in two different cultures of Indian society. Both the cultures admit that he was a great king who is known for his humanism, justice, charity and egalitarian regime. His image is used by brahmins as well as non-brahmins, by shudras as well as non-shudras of course with opposite intentions. His name may not appear in the manifestos of political parties but the ground reality is that his present generations are divided in various castes and names. All political parties try to divide their votes for obvious benefit. So much so, their hutments are pulled down in order to rehabilitate them at a far off place where their vote becomes isolated and ineffective thus further reducing their political say.
I know nothing about the political ideology of Eklavya but he is curious about the present position of Balijan Cultural Movement. I learnt only from him that the manifesto of this movement was released in Osmania University in the year 2009. Recently (in the past two days) I have come to know that the movement is alive though moving slowly. It is active in New Delhi and other states. One periodical named ‘Balijan Samaj’ is being published from Indore. I hope to get a copy of it in near future.
The work of Mahatma Phule and Mr. Braj Ranjan Mani’s book form the basis of philosophy of this movement. We await other details and literature.

हाल ही में राजा बली और ओणम उत्सव पर आलेख दिया था. इसी सिलसिले में खोजबीन की तो कुछ और जानकारी मिली.
लोक संस्कृति कभी मरती नहीं है. लोक संस्कृति को आधार बना कर कई धर्म, विचार धाराएँ, राजनीतिक विचारधाराएँ आदि पनपती हैं. राजा बली का मिथ भारतीय समाज में दो संस्कृतियों में दो छवियों के साथ जीवित है. दोनों छवियों में राजा बली समानता, मानवधर्म, न्यायप्रियता, दानवीरता के कारण जाना जाता है.
उसकी छवि का प्रयोग ब्राह्मण भी करते हैं और अब्राह्मण भी, शूद्र भी करते हैं और अशूद्र भी. उसका नाम राजनीतिक पार्टियों के घोषणा पत्रों में भले ही न हो परंतु ज़मीन पर उसके वंशजों को विभिन्न जातियों और नामों में बाँट कर रखा गया है. सभी राजनीतिक पार्टियाँ उनके वोटों को आपस में बाँटने का प्रयास करती रहती हैं. यहाँ तक कि उनके घरों को गिरा दिया जाता है ताकि उन्हें कहीं और ऐसी जगह बसाया जा सके जहाँ उनके वोट अलग-थलग पड़ जाएँ, अप्रभावी हों जाएँ और उनकी राजनीतिक आवाज़ पहले से कम हो जाए.
मैं ठीक से नहीं जानता कि एकलव्य की विचार धारा क्या है परंतु उन्हें बलीजन सांस्कृतिक आंदोलन की आज की स्थिति की जानकारी चाहिए. मुझे उन्हीं से पता चला कि बलीजन सांस्कृतिक आंदोलन का घोषणा पत्र सन् 2009 में उस्मानिया विश्वविद्यालय से जारी किया गया था. पिछले दो दिनों में मेरी जानकारी में आया है कि यह आंदोलन चल रहा है चाहे धीमी गति से चल रहा है. यह नई दिल्ली और अन्य राज्यों में सक्रिय है. इंदौर से बलिजन समाज नाम से एक पत्रिका भी प्रकाशित हो रही है. शीघ्र ही उनसे एक प्रति मिलने की आशा है.
इस आंदोलन का दार्शनिक आधार महात्मा फुले और श्री ब्रज रंजन मणि की पुस्तक है. अन्य ब्यौरे और साहित्य की हमें प्रतीक्षा रहेगी.

MEGHnet

02 September 2010

Maveli (महाबली) belongs to Meghvansh




I wrote a post On Megh Bhagat. It was captioned ‘Our hero’. It had some significance but I did not have any idea of its extension. Now I have a fair idea.

I was a child when my mother told me the story of King Maveli (Mahabali). It sounded in my ears like this: the king was so good then why someone grabbed his kingdom by fraud. Well the story was over. I fell asleep.

I got a chance to serve my organization in Trivandrum. I saw first time the fervor with which Onam is celebrated in Kerala. With much emotion and good expense people celebrate the festival. Some people (no idea who these people are) sell their belongings to celebrate the festival with determination to keep the glitter maintained. A year later I was transferred from there. But Onam festival of Kerala kept haunting my mind.

I happened to visit Jammu for attending celebrations of Kabir Jayanti. A delegation of Meghwals of Rajasthan had come. They brought along some literature. There were two important things. One was the manifesto of Balijan Cultural Movement and other a book by Shri R.P. Singh's- 'Meghvansh – Ek Singhavokan (An overview)'. I casually read both and partially published them on MEGHnet. Unknowingly a sentence kept on coming to my dim memory. It was a prayer of Meghvanshi Balai people (belonging to Madhya Pradesh, Rajasthan and Chhattisgarh). They pray like this- ‘Ala jaye bala jaye – Bali ka raj aye’ i.e. ‘let all nonsense go and let the regime of King Bali come back.’

Then I got an idea to use quotes from ‘Meghvansh- Ek Singavlokan’. As I prepared for the use of materials a very serious situation arose in front of me. Megh, Meghwal, Meghwar, Maheshwari Meghwar, Megh Rishi, Vritra and his generations, Rishi Kashyap, Diti, Aditi, Sur, Asura, Hiranyaksyap, Hirnaksha, Ban, Mahabali (popularly known as Maveli in Kerala), Prahlada, Many warriors of Mahabharata, Nag, Nagvansh, Buddhism, Dragon, Jainism, Cārvāka (Charvak), Kalinga, Khaarvel, Mahameghvahan etc. The available information looked like a black canvass having no other color or light.

It took two months to understand what was visible was an artificially created black sky. The depiction of demons (Asuras) in religious books and comics was in fact someone's defeated past, which was featured as dirty and ugly as possible. Where ever it was made presentable it was through the image of devotee (Bhakta) Prahlad. It was methodology of endorsing slavery by narrating it as ‘good' and 'ok’.

Prahlad was the son of King Bali. His predecessors and successors were struggling for their due but invaders were overpowering them. The shine of King Bali’s image has survived through centuries. His subjects and successors in Kerala kept his memories alive and they did not forget him. His work and qualities are remembered on the festival day of 'Onam'.

Onam like festival relating to King Bali is not celebrated in any other corner of India. But it was surprising to know that Maveli is remembered by a community in Madhya Pradesh, Rajasthan and Chhattisgarh. Balai community there still prays for return of regime of King Bali. In mom's story I hear a prayer for return of King Bali.

I know that the time has changed a lot. Mahabali's generations after going through centuries of abject poverty and torture have now begun to see the light of progress. This is not the era for making ethnic differences worse. It is time to evolve the society and not revolve it. However, if no good picture of the past is available then it is better to save Maveli’s shining picture to feel good. If I am not too emotional, can't we celebrate Onam our own way?

मावेली (महाबली) मेघवंश के हैं 

मेघ भगत और मेघ नेट पर मैंने हमारे हीरो के नाम से एक छोटी सी पोस्ट मैंने डाली थी. उसका कुछ महत्व था लेकिन उसके विस्तार का अनुमान नहीं था. अब है.बचपन में माँ ने मुझे राजा बली (महाबली) की कहानी सुनाई थी. मेरे कानों में वह यों लग रही थी कि राजा इतना अच्छा था तो किसी ने धोखे से उसका राज्य क्यों हड़प लिया. ख़ैर कहानी समाप्त हो गई. मैं सो गया.

नौकरी के दौरान तिरुवनंतपुरम में रहने का अवकर मिला. पहली बार पता चला कि केरल में ओणम का त्यौहार मनाया जाता है. बहुत भावुकता के साथ और ख़ूब व्यय करके लोग यह त्योहार मनाते हैं. कुछ लोग (पता नहीं ये कौन लोग हैं) अपना घर-बार बेच कर भी इस त्योहार की चमक-दमक बनाए रखने के लिए कृतसंकल्प होते हैं. एक वर्ष के बाद मेरा वहाँ से तबादला हो गया. परंतु केरल मेरे मन में कहीं टँगा रहा. 

कबीर जयंती के एक समारोह में मुझे जम्मू जाने का मौका मिला. वहाँ राजस्थान के मेघवालों का एक प्रतिनिधि मंडल आया हुआ था. वे अपने साथ कुछ साहित्य भी लाए थे. उसमें दो महत्वपूर्ण चीज़ें थीं. एक तो बलीजन आंदोलन का घोषणापत्र (मेनिफ़ेस्टो) और दूसरे श्री आर.पी. सिंह की पुस्तक मेघवंश- एक सिंहावलोकन’. मैंने दोनों सरसरी तौर पर पढ़े और मेघनेट पर अंशों में प्रकाशित किए. एक पढ़ी हुई बात कहीं मन पर पड़ी रह गई कि राजस्थान में बलाई समाज के लोग, जो मेघवंशी हैं,  प्रार्थना करते हैं कि अला-बला जाए, बली का राज आए’.

इसके बाद विचार आया कि मेघवंश एक सिंहावलोकन को विस्तार से देखा जाए और इस पुस्तक के उद्धरणों का प्रयोग किया जाए. जैसे ही मैंने यह सामग्री के प्रयोग की तैयारी की और कई आलेखों के आंतरिक जोड़ देखे तो बड़ी गंभीर स्थिति सामने आने लगी. मेघ, मेघवाल, मेघवार, माहेश्वरी मेघवार, मेघ ऋषिवृत्र और उसकी संतानें, ऋषि कश्यप, दिति, अदिति, सुर, असुर, हिरण्यकश्यप, हिरणाक्ष, बाण, महाबली (केरल में मावेलीनाम से प्रसिद्ध), प्रह्लाद, महाभारत के अनेकों योद्धा, नाग, नागवंश, बौद्धधर्म, ड्रैगन, जैनधर्म, चार्वाक, कलिंग, खारवेल, महामेघवाहन आदि की जानकारी एक काला कैन्वास बन कर खड़ी हो गई जैसे उसमें कोई अन्य रंग या प्रकाश हो ही नहीं. 

यह समझने में दो महीने लग गए कि जो दिखाई दे रहा था वह नकली आसमान था जो काला दिख रहा था. धार्मिक पुस्तकों, पाठ्यक्रम, कॉमिक्स आदि में जिसे असुर या खलनायक के रूप में देखता रहा था वह वास्तव में किसी का पराजित अतीत था जिसे यथासंभव गंदे और भद्दे रूप में चित्रित किया गया था. यदि उसे अच्छा बना कर पेश किया भी गया तो भक्त प्रह्लाद बना कर. यह भी दासत्व पर मुहर लगाने का एक तरीका था कि यह ठीक था और अच्छा था. 

राजा बली प्रह्लाद की संतानों में से है. उनके पूर्ववर्ती और उत्तरवर्ती वंशज आक्रमणकारियों से जूझते रहे और दबाए जाते रहे. केवल राजा बली की तस्वीर है जिसकी चमक मिटाए से मिटी नहीं. केरल में उसके वंशजों और प्रजाओं ने उसे भूलने नहीं दिया और उसके गुणों को एक पर्व ओणमके रूप में याद करते रहे. 

राजा बली से जुड़ा ओणम जैसा पर्व भारत के किसी और कोने में दिखाई नहीं देता. लेकिन यह जान कर आश्चर्य हुआ कि महाबली या मावेली को स्मरण करने वाला एक समुदाय मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में भी है. वहाँ के बलाई आज भी प्रार्थना करते हैं कि राजा बली का राज आए. मुझे माँ की सुनाई कहानी में भी कहीं सुनाई पड़ता है कि राजा बली का राज आए. 

मैं जानता हूँ कि अब समय बहुत बदल गया है. महाबली की संतानें शताब्दियों तक घोर यात्नाएँ और घोर ग़रीबी झेलने के बाद अब प्रगति का उजाला देखने लगी हैं. जातिगत मनमुटावों को हवा देने का युग नहीं है. यह समय समाज को आंदोलित करने का नहीं बल्कि उसे विकसित करने का है. तथापि अगर अतीत की कोई साफ़ सी तस्वीर उपलब्ध हो तो उसे सहेज कर रखना अच्छा लगता है. अगर मैं बहुत भावुक नहीं हो रहा तो क्या हम अपने यहाँ ओणम नहीं मना सकते?

अब आप ओणम के बारे में एक सार लेख पढ़ सकते हैं:-

ओणम
ओणम केरल के लोक-जीवन को हर्षोल्लास से भर देने वाला मुख्य त्योहार है. यह राज्यभर में मनाया जाता है. ओणम में केरल की पुरानी महिमा, गरिमा, वैभव और सुख-समृद्धि की झलक देखने को मिलती है. मानसून में जब भूमि हरियाली से पट जाती है, उसी समय केरल में ओणम का त्यौहार मनाया जाता है. यह केरल में नया साल शुरू होने का त्योहार भी है. 

अत्तप्पूव ओणम का एक अभिन्न अंग है. रंग-बिरंगे फूलों से चित्र रचना (अल्पना) करके पूजा करती हैं. हर दिन सुबह पुराने पुष्प हटाये जाते हैं, नए सजाए जाते हैं. ओणम की धूम-धाम छह दिन तक चलती है. छह दिनों में परिवारों में बड़ा भोज होता है. परिवार के सारे सदस्य, चाहे वे दुनिया के किसी भी कोने में क्यों न हों, तिरुओणम (श्रीओणम) के दिन माता-पिता के साथ भोजन करने अपने घर में आ जाते हैं. तिरुओणम के दिन सुबह परिवार में सब को नये-नये कपड़े बांटे जाते हैं, जिसे ओणप्पुडवा कहते हैं यानी कपड़ा. ओणम के दिनों में हर घर में बच्चों के लिए झूले लगाये जाते हैं. स्त्रियाँ लोकगीत गाकर नृत्य करती हैं. इस त्यौहार के अवसर पर कबड्डी और गेंद (देशी) का खेल भी होता है. नौकोत्सव भी ओणम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. 

इतिहास के अनुसार केरल के मशहूर पेरूमाल वंशी राजा चेरमान पेरूमाल ने इस महोत्सव को प्रारंभ किया था. वे महाबली को एक आदर्श पुरुष मानते थे. तृक्काक्करा मंदिर में चूंकि वामन की मूर्ति प्रतिष्ठित है, अत: श्री पेरुमाल ने वहाँ प्रतिवर्ष ओणम, महोत्सव के रूप में मनाये जाने के कुछ तौर-तरीके नियत किये. कर्क महीने के श्रवण नक्षत्र से शुरू होकर सिंह महीने के श्रवण नक्षत्र तक, जिस दिन महाबली को वामन से मुक्ति मिली, केरल के कोने-कोने में यह त्योहार धूम-धाम से मनाए जाने का निश्चय किया था. उन दिनों अट्ठाइस दिनों तक महोत्सव मनाया जाता था. 

पौराणिक कथा के अनुसार असुर वंश के राजा महाबली केरल में शासन करते थे. उनके शासनकाल में न कहीं असमानताएँ थी न ही धोखा-धड़ी, सर्वत्र न्याय और धर्म का शासन था. उनकी न्यायप्रियता ओर धर्मनिष्ठा से इंद्रासन हिलने लगा. इंद्र ने महाविष्णु से इस स्थिति से बचाने की प्रार्थना की. महाविष्णु वामन का रूप धारण कर महाबली के पास आये और तपस्या के लिए तीन पग भूमि मांगी. बली ने बड़ी प्रसन्नता से ब्राह्मण को भूमि देने का वचन दिया, लेकिन वह जन हितैषी राजा ठगे गये. सहसा वामन ने बृहद रूप धारण करके बली की वचनबद्धता का फायदा उठाते हुए दो ही पगों से स्वर्ग, पाताल और भूमि नाप ली. बली ने तीसरे पग नापने के लिए अपना सिर झुका दिया. वामन ने बली के सिर पर तीसरा पग नापते हुए उन्हें पाताल में धंसा दिया. यही कहा जाता है कि पाताल जाने से पहले बली ने वामन से हर साल एक बार अपनी प्रजा की कुशल क्षेम जानने के लिए अपने राज्य में आने की अनुमति माँगी थी और वामन ने अनुमति दी भी थी. केरल के लोगों को विश्वास है कि हर साल सिंह महीने के शुक्ल पक्ष द्वादशी को महाराज बली अपनी प्रजा का कुशल-क्षेम जानने के लिए पधारा करते हैं. 

ओणम के दिन जनता अच्छी मिठाइयाँ पकाकर, नए कपड़े पहनकर घरों और रास्तों में दीप जलाकर राजा बली का भव्य स्वागत तथा पूजा करने की परिकल्पना करती है. लोगों को विश्वास है कि उत्तराषाढ़ की रात को राजा महाबली हर घर का दौरा करते हैं और इसलिए इस दिन रात-भर में अखंड दीप जलाये रखते हैं. इस प्रकार लोग अपने प्रजाहितैषी भूतपूर्व सम्राट को यह बताते हैं कि हम आज भी आपके शासनकाल के समान सुखी और सकुशल हैं. 

बाजार में करोड़ों का कारोबार होता है. सरकार की ओर से सभी जिला केंद्रों और राजधानी तिरुवनंतपुरम में कई कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. लोक कलाओं की प्रस्तुति और मनोरंजक कार्यक्रम भी होते. ओणम को वर्ष 1961 में राजकीय त्योहार घोषित कर दिया गया. अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त होने के कारण ही भारत सरकार ने ओणम पर्व को पर्यटन सप्ताह घोषित किया. इस दौरान हजारों सैलानी पर्यटन के लिये केरल आते है.



यू-ट्यूब पर ओणम और राजा बली


Onam and Raja Bali on You Tube


(ऊपर दिए गए चित्र विकिपीडिया से लिए गए हैं)

Other links from this blog






MEGHnet