02 October 2010

Maveli (महाबली) and Matriarchal Society (मातृप्रधान समाज)

It refers to Maveli belongs to Meghvansh and other articles pertaining to this subject. Recently I remembered that Kerala has a matriarchal society. Likewise north-west region of India also has matriarchal system of society. Maveli ruled in Kerala and south-western parts of the country. His son Ban was governor of north-west. It is interesting that these parts of country have a matriarchal system of society? Did Maveli start this system in recognition of importance of women in society or was this system prevailing in Indus Valley Civilization before Maveli existed? Has the system of matriarchal society of this part of the globe been sytematically destroyed? At the same time I feel that women living in these regions also are not one up though property is in the name of women. Surname continues after the name of mother. However women in these areas are more conscious about their rights and know better about the life outside four walls of the house.

It is a fact that history of original inhabitants of Indus Valley Civilization has been corrupted or destroyed beyond recognition and it is very difficult to reconstruct it. However, it may be possible to collect traces and signs and extract something from human experience. Kayasthas of India got their history corrected after 200 years of struggle. It became possible through education, organization and awareness. Maharishi Shivbrat Lal Burman (ये संतमत/राधास्वामी मत में जाना माना नाम हैं और सुना है कि इन्होंने भारत में दूसरी टाकी फिल्म बनाई थी जिसका नाम 'शाही लकड़हारा' था) and Munshi Prem Chand belonged to Kayasthas. It will still be harder for Meghvanshis to do it. But it is worth doing it.    
 
राजा महाबली और मातृप्रधान समाज
इसका संदर्भ Maveli belongs to Meghvansh और ऐसे अन्य आलेखों से है. हाल ही में मुझे याद आया कि केरल में मातृप्रधान समाज है. इसी प्रकार उत्तर-पूर्व में भी मातृप्रधान समाज प्रचलित है. महाबली का राज्य दक्षिण और दक्षिणी-पश्चिमी क्षेत्रों में था. उसका बेटा बाण उत्तर-पूर्वी क्षेत्र का गवर्नर था. क्या यह हैरानगी की बात नहीं है कि इन दोनों क्षेत्रों में आज भी मातृप्रधान समाज है? क्या राजा महाबली ने समाज में महिलाओं का महत्व समझते हुए यह प्रणाली लागू की थी या महाबली से भी पहले सिंधु घाटी सभ्यता में यह प्रणाली पहले से चल रही थी? क्या देश के अन्य हिस्सों से मातृप्रधान समाज को क्रमबद्ध तरीके से समाप्त किया गया? मैं यह भी महसूस करता हूँ कि इन क्षेत्रों में संपत्ति महिलाओं के नाम में होती है लेकिन वे पुरुषों पर इक्कीस नहीं पड़ती हैं. वंश का नाम माता के नाम से चलता है. इन क्षेत्रों की महिलाएँ अपने अधिकारों के बारे में और घर की चारदीवारी से बाहर के संसार को बेहतर जानती हैं.

यह सच है कि सिंधु घाटी सभ्यता के मूल निवासियों के इतिहास को इतना नष्ट और भ्रष्ट कर दिया गया है कि उसे पहचानना और उसका पुनर्निर्माण करना कठिन है. लेकिन संकेतों और चिह्नों को एकत्र करना संभव है और मानवीय अनुभव से कुछ-न-कुछ निकाला भी जा सकता है. भारत के कायस्थों ने आख़िर 200 वर्षों के संघर्ष के बाद अपना इतिहास ठीक करने में सफलता पाई है. ऐसा शिक्षा, संगठन और जागरूकता से संभव हो पाया. महर्षि शिवब्रतलाल (ये संतमत/राधास्वामी मत में जाना माना नाम हैं और सुना है कि इन्होंने भारत में दूसरी टाकी फिल्म बनाई थी जिसका नाम 'शाही लकड़हारा' था) और मुंशी प्रेमचंद कायस्थ थे. मेघवंशियों के लिए ऐसा कर पाना और भी कठिन होगा. परंतु यह करने लायक कार्य है.


इस आलेख के नीचे टिप्पणीकार श्री पी.एन. सुब्रमणियन द्वारा दिया गया लिंक यहाँ जोड़ा गया है. (स्त्री सशक्तिकरण) सुब्रमणियन जी को कोटिशः धन्यवाद


MEGHnet