18 February 2011

I dream of Meghwal University, Megh Bank....


सपना देखना सभी का अधिकार है. इसकी अहमियत समय-समय पर संतों ने और मैनेजमेंट गुरुओं ने बताई है. मन की कार्यप्रणाली का यह ऐसा रहस्य है कि कई लोगों ने सपना दिखाने को एक व्यवसाय के तौर पर अपनाया है. इनमें समझदार ज्योतिषी भी शामिल हैं और साहित्यकार भी. पिछले दिनों डेविड श्वार्ट्स की लिखी एक पुस्तक देखी जिसका शीर्षक था बड़ी सोच का बड़ा जादू (The Magic of Thinking Big). यह पुस्तक दुनिया के best sellers में से एक है. पन्ने उलटे-पलटे. कुल मिला कर यह सपने जगाने वाली किताब लगी. प्रभाव प्रभाव दिखने लगा. सपने जगने लगे.

तुरत मन में विचार आया कि मुझे एक सामाजिक संस्था ने मेघ-भवन का सपना दिखाया था. मेरी ख़्याली उड़ान कभी-कभी मेघ-भवन से भी आगे जाकर मेघ इंजीनियरिंग कालेज, मेघ मेडिकल कालेज, मेघ फार्मास्युटिकल्स तक जाती थी. अब मेघ यूनिवर्सिटी का सपना भी देखने लगा हूँ. यूनिवर्सिटी एक विद्यामंदिर है जिसकी अहमियत है. उसके साथ एक और सपना जुड़ रहा है एक कमर्शियल बैंक का दि मेघ बैंक. एक मेघ नगर भी तो हो सकता है जिसमें सभी समुदायों के लोग प्रेमपूर्वक रहते हों.

मन है कि रुकने का नाम नहीं लेता. एक वास्तविक सा थ्री-डी सपना देखता हूँ - हजार एकड़ में फैले कबीर मंदिर का और हजार एकड़ में फैले मेघऋषि (वृत्र) महामंदिर का जहाँ प्रतिवर्ष मेघ-महाकुंभ का भव्य मेला लगता है. सभी मेघवंशी प्रकाश में धुले से यहाँ आते हैं जिनमें एकता है और सर्वसाधन संपन्न हैं. ऐसे सपने बहुत से हैं और भी आ रहे हैं.....

क्या आप भी ऐसे सपने देखते हैं? आज से ज़रूर देखें. विश्वास कीजिए उन पर कार्य भी होने लगेगा.

Other links from this blog






MEGHnet