10 February 2012

The myth of Arya - आर्य शब्द की भ्रांतियाँ


आर्य का अर्थ साहित्यिक और शब्दकोशीय भ्रांतियाँ
 
कर्नल तिलक राज जी से कई बार फोन पर लंबी बातचीत होती है. पिछले दिनों ऐसी ही एक बातचीत के दौरान उन्होंने पूछा, भाई, यह बताओ कि आर्य शब्द का अर्थ क्या होता है” ? कर्नल साहब बहुत विद्वान व्यक्ति हैं. मैं तनिक होशियार हो कर बैठ गया. मैंने कहा, आर्य का अर्थ है जो बाहर से आकर आक्रमण करे.कर्नल साहब की आवाज़ की उमंग छिपी नहीं रह सकी. वे तुरत बोले, बिल्कुल सही. यह शब्द अरि’ (शत्रु) से बना है.फिर उन्होंने धातु के अनुसार इस शब्द की व्युत्पत्ति बताई. उन्होंने आर्यसमाज के संस्थापक दयानंद नामक ब्राह्मण द्वारा प्रचारित अर्थ का उल्लेख किया और फिर कहा कि वह आर्य शब्द का अर्थ श्रेष्ठबताता है.

शब्दकोशों में जिस तरह से चमार शब्द के साथ घृणा जोड़ी गई ठीक वैसे ही आर्य शब्द को महिमामंडित करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी गई. इस पर मैंने अपने नोट्स नीचे दिए लिंक पर रखे हैं. यहीं स्पष्ट कर देना चाहता हूँ कि इस आलेख में किसी बात के होते हुए भी यह तथ्य है कि किसी भी कारण से क्यों न हो, मेघ भगतों की शिक्षा का पहला प्रबंध आर्यसमाज ने ही किया था और मेघों को 'आर्य मेघ' और 'आर्य भगत' कहा. 

अब दलितों के नाम के साथ 'आर्य' लगाने का फार्मूला एक ही तरफ जाता दिखता है और लक्ष्य है यह सिद्ध करना कि ब्राहमण आर्य और दलित आर्य एक ही सभ्यता (सिंधुघाटी) की पैदाइश हैं. ब्राहमण आर्यजन पिछले लगभग सवा सौ वर्षों से सारा ज़ोर इसी पर लगाते दिख रहे हैं जबकि दूसरी ओर ऐतिहासिक जानकारियाँ इससे मेल नहीं खातीं. वैसे भी वे समय-समय पर स्थिति देख कर साहित्य के साथ छेड़-छाड़ करते रहे हैं और बिना मतलब के ऐसा नहीं किया जाता. लेकिन अब समय बदल गया है. सत्य को स्वीकारना बेहतर है.  





07 February 2012

Definition of epic- a democratic squabble - महाकाव्य की परिभाषा - एक लोकतांत्रिक रार


जयशंकर प्रसाद की कामायनी पर एक आलेख पढ़ा जिसमें महाकाव्य के लक्षणों का उल्लेख था. लिखा था कि महाकाव्य का प्रारंभ से नहीं होना चाहिए. लेकिन कामायनी की शुरूआत ही यों है- हिमगिरि के उत्तुंग शिखर पर बैठ शिला की शीतल छाँह....” महाकाव्य के शास्त्रीय लक्षणों से हट कर मेरा मन महाकाव्य की आधुनिक परिभाषा में झाँकने लगा.

हमारे दो प्रमुख महाकाव्य हैं- रामायण और महाभारत. इन्हें कइयों ने कई तरह से लिखा. 'शोले' के लेखक सलीम-जावेद के फिल्मी कथानकों में महाभारत भरा हुआ है, गब्बर सिंह ऐसा कह गया है.

हमारे अन्य महाकाव्यों में भी महाराजाओं की कहानियाँ हैं. आज के लोकतंत्र-गणतंत्र में महाराजा का अर्थ है अकूत धन, बड़े युद्ध, सेनाएँ, अर्थतंत्र को नियंत्रित करता है, लोगों को पुरस्कृत-दंडित करता है, न्याय करता है, न्याय की परिभाषा भी लिखवाता है, अपने कर्मों को धर्म के अंतर्गत लाने के तरीके जानता है, संक्षेप में धर्म पर शासन करता है और धनापेक्षी विद्वानों का लेखन अपने पक्ष में मोड़ता है. इस प्रक्रिया में उसका व्यक्तित्व इतना ग्लैमर पा जाता है कि प्रजा उसकी कमज़ोरियों, ग़लतियों या कमियों की बात सोचने से भी घबराने लगती है. महाकाव्य उसी के इर्द-गिर्द रचे जाते हैं. यूरोप में भी ऐसा ही हुआ.

प्रत्येक युग में नायक राजा के साथ प्रजा पूँछ की तरह होती है. मान लिया जाता है कि राजा का खून खून होता है और उसकी पूँछ का खून पानी और कि पूँछ को दर्द नहीं होता. क्या प्रजा या आम आदमी का कोई युद्ध या संघर्ष नहीं होता? अवश्य होता है- उसकी अपनी प्रतिदिन की आवश्यकताओं और अभावों के साथ. उसका यह महायुद्ध अंतःकरण में चलता है. वह तभी दिखता है जब कबीर उस आदमी के कष्टों को गाते हैं और उसकी मुक्ति की बात भी करते हैं. आह! या मुंशी प्रेमचंद उसे कष्ट में नाचते हुए चित्रित करते हैं. उफ़! वह भी महाकाव्य का रस देने लगता है.

जहाँ तक छवियों का सवाल है हमारे महाकाव्यों के हीरो राम और कृष्ण काले रंग के हैं. अधिकतर भारतीय काले-भूरे हैं. अतः महाकाव्य के नए लक्षण लिखने की दरकार है. इससे यूरोपीय महाकाव्यों से बेहतर तुलना हो सकेगी. 

कच्चा-पक्का ही सही एक अन्य निष्कर्ष यह है कि जब महाकाव्यों में आम आदमी की पीड़ा की उपेक्षा बहुत देर तक होती है तब महाकाव्यों की कथाओं पर प्रश्नचिह्न लगने लगते हैं और लोकतांत्रिक प्रणालियाँ शक्ति पाने लगती हैं. लेकिन परिवर्तन अचानक लागू नहीं हो जाता. शासक दल और शासक परिवार लोकतंत्र में मनमानी करते हैं. यदि वे आम आदमी का कष्ट कम करने के लिए कार्य करें तो ठीक अन्यथा प्रकृति की शक्तियाँ आम आदमी के हित में सक्रिय हो जाती हैं. महाकाव्य का वास्तविक नायक तो आम आदमी का दर्द ही है जिसे जनमानस प्रतिदिन जपता है.


03 February 2012

Megh Churn-3 – मेघ मथनी (मधाणी)-3



चाटी में रखा धर्म

बड़ीईईईई मुश्किल है. मिस्टर मेघ से बात करना ख़तरे से ख़ाली नहीं. वे हमेशा ज़मीनी बात कहें यह ज़रूरी नहीं लेकिन वे कड़ुवी बातें कहेंगे यह तय है. इस बार जब वे भार्गव कैंप (मेघ नगर) की गली में शहतूत के नीचे बिशना टी-शाप पर मिले तो जैसा कि होता आया है, विषय खिसक कर ऐसी जगह पहुँचा जिसका मुझे अनुमान नहीं था. मैंने ही शुरू किया था-

मैं- सर जीईईईई, जय हिंदअअ. कैसे हैं.

मि. मेघ- सुना भई, तेरी दोनों टाँगे चल रही हैं न?

मैं- क्यों सर जी, मेरी टाँग को क्या हुआ.

मि. मेघ- पिछली बार तेरे इतिहास की टाँग तोड़ दी थी मैंने, इस लिए पूछा. हा हा हा हा हा हा....

मैं- (उदास स्वर में) हाँ अंकल जी. अब हमें बिना टाँग से गुज़ारा करना पड़ेगा क्योंकि दूसरी भी टूटती नज़र आ रही है. बुरा न मनाना सर जी, हमारा इतिहास तो है नहीं, धर्म भी रसातल में जा रहा है.

मि. मेघ- क्या हुआ? बड़ा दुखी नज़र आ रहा है. तेरा सनातन धर्म तो आर्यसमाज है. उसकी बैसाखी टूट गई क्या? लगता है गायत्री मंत्र ने बेड़ा पार नहीं किया.

मैं- उस बैसाखी को टूटे तो 60 साल हो गए. अब समस्या बहुत गंभीर हो गई है.

मि. मेघ- ओह, तो तेरी समस्या धर्म है. तू खुद को हिंदू कहता है और हिंदू तेरे को हिंदू नहीं मानते. यही तेरी समस्या है तो दफ़ा हो जा.

मैं- क्या बात करते हो अंकल जी!! हम हिंदू नहीं तो फिर और क्या हैं? यही न कि हिंदुओं में सबसे नीचे रखे हुए हैं.

मि. मेघ- खोत्तेया, सब से नीचे रह कर तू खुश है. तभी तो तू महान है उल्लुआ.

मैं- तो क्या आप हिंदू नहीं हो?

मि. मेघ- हूँ. लेकिन एक अलग मायने में. होशियार रहता हूँ कि बीजेपी और आरएसएस के झाँसे में न आऊँ. ये तो निरा धोखा हैं.

मैं- यह तो आप में कांग्रेस का भूत बोल रहा है. आप आधे तीतर और आधे बटेर हो चुके हो.

मि. मेघ- तू सही कह रहा है. पर तू मेरी छोड़, अपनी बता. चाय पीनी हो तो बात कर.

(चाय से बातचीत के दरवाज़े खुलते हैं. बिशना को कड़क चाय का आर्डर किया. कैरोसिन का स्टोव शूँ-शूँ करने लगा. भाप के साथ पत्ती की महक आने लगी.

मि. मेघ- चल, अब शुरू हो जा. चाय बन रही है.

मैं- अंकल जी, आपने भी सुना होगा कि बहुत से मेघ ईसाई बन गए हैं.

मि. मेघ- और तेरे पेट में दर्द उठता होगा? हैं? यदि तेरी यही समस्या है तो इसमें मेरी कोई दिलचस्पी नहीं. ओए बिशना आर्डर कैंसल कर.

मैं- बिशना आर्डर कैंसल नहीं होगा....मेघ जी यह बिरादरी की समस्या है. हम हैं ही कितने? पहले ही एकता की कमी है और हम और ज़्यादा बँट जाएँगे.

मि. मेघ- अच्छा...अच्छा...अच्छा. तो तुझे यह ग़म खाए जा रहा है! अच्छा यह बता कि तुझे यह ग़म कब से खा रहा है? जब से मेघ सिख, आर्य समाजी बने या मुसलमान हुए या फिर राधास्वामिए बन गए? अच्छा यह बता कि सिख, आर्यसमाजी, मुसलमान, राधास्वामिए या ईसाई बनने से पहले तुम्हारा कोई धर्म था? था तो कौन सा था? चल बता...

मैं- मैं नहीं जानता, बिल्कुल.

मि. मेघ- तो फिर दुखी क्यों होता है? तू कुछ नहीं है और ख़ुद को समझता भी है कि कुछ है. मतलब तू पहले कुछ भी नहीं था, और अब कुछ बन गया है. जो बनेगा, वो बँटेगा. इसमें कोई नई बात है क्या? तुझे यह तक तो पता नहीं कि तेरा पुराना धर्म क्या है. तो क्या तेरे पुरखे बिना धर्म के जीते आ रहे थे? डेरे-डेरियाँ क्या ऐसे ही बन गए? अक्ल की बात किया कर यार.

मैं- मैंने तो कहीं इसके बारे में पढ़ा नहीं.

मि. मेघ- मैं बताता हूँ. तेरा धर्म है- अनपढ़ता. (विरक्त हो कर) सारी उम्र ऐसे ही कट गई. बाकी भी कट जाएगी.

मैं- (खीझ कर) तो फिर आप बताओ न. क्या था धर्म हमारा?

मि. मेघ- तेरे मुँह में तो बस कोई खीर बना कर डाल दे. ख़ुद तो कुछ करना ही न पड़े. पुत्तर, स्टेट लाईब्रेरी में जाया कर. चल तेरे को एक शार्ट कट बता देता हूँ. कुछ न पढ़ सके तो अंबेडकर को पढ़ ले.

मैं- यूँ ही मारे जा रहे हो. कुछ बताओ तो सही. अंबेडकर के बारे में हो सकता है मैं कुछ जानता होऊँ.

मि. मेघ- अच्छा तो यह बता कि अंबेडकर का धर्म क्या था?

मैं- वो हिंदू थे, और क्या.

मि. मेघ- लक्ख लानत..

मैं- क्यों?

मि. मेघ- वे बौध थे.

मैं- (अचानक याद आने पर) हाँ-हाँ-हाँ-हाँ-हाँ, मैंने सुना था.

मि. मेघ- (चुभती आवाज़ में) बौध धर्म के नाम से अब तेरे पेट में फिर से दर्द उठ रहा होगा. नहीं? बिशना से तू चुल्लू भर पानी ले ले और डूब कर मर जा.
(बिशना की आँखें चमक उठीं)

बिशना- हंबेडकर ने कहा था चाचा, कि मैं नरक में पैदा तो हो गया था पर नरक में मरूँगा नहीं.

मि. मेघ- सुन लिया? जो तू नहीं जानता वह बिशना जानता है. अब धरती पर तेरे मरने के लिए कोई जगह नहीं. तू सिर्फ़ बिशना की चाय में डूब कर मर सकता है. चाय पकड़ ले.....और आखिरी बार समझ ले कि धर्म एक ऐसा नकली दही है जिसमें से कोई भी मधाणी मक्खन नहीं निकाल सकती. तू दुखी मत हुआ कर, मेघ बहुत स्याने लोग हैं इसका विश्वास रख.

मिस्टर मेघ कहीं भी, कुछ भी कह सकते हैं. लेकिन उन्होंने आख़िर तक मेघों के ईसाई बनने पर अपनी ओर से कुछ नहीं कहा. मिस्टर मेघ हैं ही मेघ, ऊँची सोच वाले, एकदम आसमानी. कोई कुछ भी बने, वे धर्म को लेकर परेशान नहीं होते. ईसाई मिशनरियों, आरएसएस ने शायद बरास्ता मि. मेघ के मेघों को जान लिया है. मेघ ईसाई भी बन रहे हैं और बुड्डा मल ग्रऊँड में आरएसएस की शाखा भी लगने लगी है. बहुत ख़ूब और जय हो !!

लेकिन समझ नहीं पा रहा हूँ कि मेघ एकता की बात पर मि. मेघ मुझे गोली क्यों दे गए? 

Megh churn-1 - मेघ मथनी-1

Megh churn-2 - मेघ मथनी-2




MEGHnet