17 August 2015

Meghendra and 'Megh' - मेघेंद्र और 'मेघ'

जब मैंने श्री मुंशीराम की पुस्तक ''मेघ-माला'' पढ़ी थी तब इस बात से मैं सहमत था कि कई कबीलों के नाम प्राकृतिक शक्तियों के नाम पर भी रखे गए हैं. हालाँकि मध्य एशिया में 'कबीला (Tribe)' शब्द का पर्यायवाची शब्द 'मेघ (Megh)' उपलब्ध है. तथापि, प्राचीन शब्द 'मेघ' बादलों का भी पर्यायवाची है. 'हिन्दी पर्याय कोष' में कहा गया है कि 'मेघ' और 'जगजीवन' दोनों एक ही अर्थ के दो शब्द हैं. हिन्दी राष्ट्रभाषा कोष में 'मेघ' का अर्थ लिखा है - ''जगजीवन - जगत का आधारजगत का प्राणईश्वरजलमेघ.'' इसका सीधा सा अर्थ है - 'जग के लिए कल्याणकारी'.

जब हम 'इंद्र' शब्द पर विचार करते हैं तो वैदिक-पौराणिक मिथकों की भरमार दिखती है जो कहीं ले नहीं जाती बल्कि उलझाती है. भाषा की दृष्टि से इसका सीधा अर्थ 'शक्ति' और 'उर्वरता' है. इस दृष्टि से जब हम बुद्ध के लिए प्रयुक्त शब्द मेघेंद्र पर विचार करते हैं तो उसका अर्थ ''मेघों की शक्ति और उर्वरता'' से है. मेघों के 'इंद्र' अर्थात् भीतरी शक्ति (उदारहणतः श्रवणेंद्रिय आदि) तक इसका अर्थ विस्तार है. यानि जो अंदर से/भीतर से शक्ति देता है. इस दृष्टि से ''मेघों का राजा'' के अर्थ में भी यह शब्द एक स्वाभाविक अभिव्यक्ति है और 'मेघों का कल्याणकर्ता' तक इसकी अर्थ-छटा छाई है

मेघवंश के इतिहासकार ताराराम ने एक जगह लिखा है कि - 'इसकी संभावना सबसे अधिक है कि हमारे पास मेघ कबीले का नाम डियोनाइसियस (Dionysius) के मेगारसस (Megarsus) नदी में सुरक्षित है. दोनों नामों की आपस में तुलना करने पर, मेरे अनुसार संभव है कि मूल शब्द मेगान्ड्रोस (Megandros) हो जो संस्कृत के शब्द मेगाद्रु, या मेघों का दरिया, के समतुल्य होगा.' जाँच करने की आवश्यकता है कि "मेगांद्रोज़ (Megandros)' शब्द के 'मेघेंद्र' शब्द के निकट होने की संभावना कितनी है. 'मेघेंद्र' शब्द बुद्ध के लिए प्रयोग हुआ है. इस संदर्भ से ऊपर आए सभी अर्थ बुद्ध से स्वतः संबद्ध हो जाते हैं.

जहाँ तक ''मेघेंद्र'' शब्द की प्रयुक्ति का प्रश्न है यह शब्द 14वीं शताब्दि में लामा तारानाथ विरचित 'भारत में बौध्द धर्म का इतिहास' (हिंदी अनुवाद) के पृष्ठ 1 पर आया है और ताराराम जी की पुस्तक 'मेघवंश - इतिहास और संस्कृति, पृष्ठ-142' पर भी है. दोनों के संदर्भित पृष्ठों की फोटो नीचे दी गई हैं.


+

MEGHnet