22 October 2016

Life of Kabir - कबीर का जीवन

जिन लोगों की आस्था है कि कबीर कमल के फूल पर पैदा हुए थे और 120 साल जीवित रहे वे इस लेख को आगे न पढ़ें. वे पक्का जान लें कि उनकी आस्थाएँ ज़ख़्मी होने वाली हैं. न पढ़ने की चेतावनी दे दी है, आगे उनकी मर्ज़ी.

एक बार एक कुनबाई बातचीत में एक बुज़ुर्ग ने कहना शुरू किया कि कबीर अवतारी पुरुष थे. वे एक विधवा बाह्मनी के यहाँ पैदा हुए थे. आगे कुछ देर के बाद उन्होंने कहा कि कबीर आसमानी बिजली के साथ आए और कमल के फूल पर पैदा हुए. मुझ से रहा नहीं गया. मैंने वहाँ बैठी महिलाओं से पूछा, "आप यहाँ इतनी महिलाएँ बैठी हैं. आप में से किसी ने कमल के फूल पर बच्चा पैदा होते देखा है?" पहले तो वे बुज़ुर्ग का लिहाज़ करके चुप लगाती दिखीं लेकिन बाद में एक-एक कर बोल पड़ीं कि 'बच्चे तो औरतें ही पैदा करती हैं'. सीधी बात, नो बकवास! अब कबीर विधवा बाह्मनी या बाह्मन कन्या के यहाँ पैदा हुए इसके बारे में पहले भी बहुत कुछ कहा जा चुका है.

इसी तरह किसी ने कहा कि कबीर 120 साल जिए तो किसी ने कबीर की उम्र 130 साल बताई. लेकिन एक जाने-माने भाषाविज्ञानी और इतिहास कुरेदने वाले डॉ. राजेंद्र प्रसाद सिंह ने यह नई जानकारी लाकर सामने रख दी:-

"आरकियोलाजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (न्यू सीरीज) नार्थ वेस्टर्न प्राविंसेज़, भाग 2, पृ. 224 पर अंकित है कि कबीर का रौजा (मकबरा, समाधि) 1450 . में बस्ती जिले के पूर्व में आमी नदी के दाहिने तट पर बिजली खां ने स्थापित किया था। रौजे की पुष्टि आईन--अकबरी भी करता है। अर्थात 1450 . से पहले कबीर की मृत्यु हो चुकी थी।

कबीर का जन्म 1398 . में हुआ था। अर्थात कबीर की मृत्यु तब हुई, जब वो 51-52 साल के थे। ऐसे में स्वभाविक प्रश्न उठता है कि उनकी मृत्यु सामान्य नहीं थी, आकस्मिक थी।

कबीर की आकस्मिक मृत्यु का रहस्य खुलना चाहिए। ... और यह भी कि उनके बूढ़े चित्रों का चित्रकार कौन था? ... और यह भी कि उनके 120 वर्षों तक जीवित रहने की कल्पना पहली बार किसने की? ... और यह भी कि सिकंदर लोदी के अत्याचारों से कबीर को पहली बार किसने जोड़ा तथा क्यों जोड़ा? जबकि सिकंदर लोदी तो कबीर की मृत्यु के 38 वर्षों बाद गद्दी पर बैठा था।"
पूरा आलेख

जब तिहासिक सबूत मिल गया है तो यह सवाल भी उठेगा कि कबीर के 120 वर्ष तक ज़िंदा रहने और मगहर में मरने की अफ़वाह किसने उड़ाई. मुमकिन है कि उसी ने उड़ाई हो जो कबीर के पास था, जो घटना का चश्मदीद था और जिसने कहानियाँ लिख मारीं कि कबीर 120 साल ज़िंदा रहने के बाद मर्ज़ी से मगहर में जा कर मरा. याद रहे कि ऐसी झूठी कहानियाँ क़ातिल भी बनाते हैं. आख़िरी संस्कार या सुपुर्द--ख़ाक होने से पहले ही लाश फूलों (अस्थियों) में बदल जाए ऐसा साइंस के सभी असूलों के ख़िलाफ़ है. यह प्रश्न तो उठेगा कि क्या कबीर की हत्या की गई थी और कि बाद में झूठी कहानियाँ फैला दी गईं? यह भी लिखा गया कि कबीर को कई बार, कई तरीके से मारने की कोशिश की गई लेकिन वे नहीं मरे.

मैंने कबीर को लंबे अर्से तक पढ़ा है लेकिन अब मैं उसे भगत, ज्ञानी, रूहानी आदमी के रूप में नहीं देखता. मैं उस कबीर को जानता हूँ जो इस देश के मूलनिवासियों को ग़ुलामी से आज़ादी की ओर जाने के लि चेतवान बनाता है.

यदि आप फेसबुक पर हैं तो नीचे दिए लिंक पर आपको ज़्यादा जानकारी मिल जाएगी.

(17-11-2016)
इस बीच ताराराम जी ने जोधपुर से एक फोटो भेजी है जो ई. मार्सडेन की एक पुस्तक 'भारतवर्ष का इतिहास' में मिली है. यह पुस्तक 1919 में छपी थी. इस फोटो में दिया स्कैच कबीर की एक अलग छवि पेश करता है. इसमें कबीर की आयु 40 वर्ष की बताई गई है. इसमें कोई कंठी, माला, मोरपंख, मुकुट आदि धार्मिक प्रतीक नहीं हैं. एकदम सादा शख़्सियत गढ़ी गई है. इस पुस्तक के अनुसार कबीर का जीवन 40 वर्ष रहा. सवाल तो उठता रहेगा कि कबीर की मौत कुदरती थी या ग़ैर-कुदरती. उसकी वजह भी है. कबीर ने यदि केवल ईश्वर, परमेश्वर, राम, अल्लाह का नाम लेकर जीवन बिताया होता तो उसके जीवन का लोगों के लिए क्या महत्व था. किसी को उसके उस काम से क्या चिढ़ या दुशमनी हो सकती थी. लोग उसी को याद रखते हैं जिसने उनके लिए कोई संघर्ष किया हो. कबीर की जिस बात के लिए उनके समय के लोगों ने उनका विरोध किया उसे ही समझने की ज़रूरत है. वे हिंदू, मुसलमान दोनों को राह बताते थे कि इंसानियत पहले और धर्म बाद में आता है. यही बात थी जो धार्मिक या मज़हबी लोगों को रास नहीं आती थी. वे यह भी समझाते रहे कि जात-पात और कुछ नहीं सिर्फ़ गुलामी है और उससे आज़ादी जरूरी है. व्यक्ति की आज़ादी के वे हिमायती थे और विवेक उनका पैमाना था. उस समय उनका यह संघर्ष मामूली संघर्ष नहीं था. वे उन ख़तरों से खेल रहे थे जो धार्मि और जातिवाी लोग उनके लिए के पैदा कर रहे थे. भूलना नहीं चाहिए कि दादू दयाल जैसे कई अन्य संतों की निर्मम हत्याएँ की गई थीं. कबीर के साथ क्या हुआ यह अभी भी खोज का विषय है
  

16 October 2016

My Megh, Your Megh - मेरा मेघ, तेरा मेघ

स्यालकोट से पंजाब में आकर बसे मेघ भगतों को बहुत शिकायत रही है कि अब तक लिखे उनके पुराने इतिहास में ऐसी कोई बात नहीं बताई गई जिस पर आज की पीढ़ी नाज़ कर सके. मैं इस इल्ज़ाम के निशाने पर हूँ. उनकी बात में बहस की एक त्यौरी है लेकिन उसकी लकीरें इसलिए गहरी नहीं हैं क्योंकि किसी समुदाय का इतिहास अचानक शुरू हो कर अचानक कहीं समाप्त नहीं होता. इस बात को यों समझेें कि आप अपना इतिहास नहीं जानते तो इसका अर्थ यह नहीं कि दूसरे लोग भी आपका इतिहास नहीं जानते. हमें अपने बारे में जो लिखा हुआ मिला है वह अधिकतर दूसरों का ही लिखा हुआ है जिसे मिटाना मुश्किल है. वो नहीं तो आप कुछ अपना लिखिए जो आपको ठीक-ठाक सा लगे.

गरीब कौमों का पिछला इतिहास उनकी गरीबी में से ख़ुद झांकता है. भारतीय संविधान से मिले नुमाइंदगी के अधिकार (आरक्षण, reservation) से हुई उनकी आज की तरक्की में उनका बदलता हुआ मौजूदा इतिहास है और तरक्की करने की उनकी खुद की ताक़त जो उनके इतिहास का भविष्य हैं. इतिहास का कोई एक रंग-रूप नहीं होता.

चुनावी सियासत ने साफ कर दिया है कि जात-पात एक सच्चाई है जिसका इस्तेमाल करने से वे बाज़ नहीं आएँगे और कि वह समाज का एक टिकाऊ अंग है. जात-पात से अनजान बड़े होते हमारे मासूम बच्चे जब अचानक कहीं इस सच्चाई से रूबरू होते हैं तो उनको लगी चोट और उलझन का कोई अंत नहीं होता कि उनके साथ समाज का एक हिस्सा वैसा गंदा व्यवहार क्यों करता है? उनकी चोट का क्या इलाज है? इलाज यह है कि उन्हें पिछला इतिहास जानने दीजिए और उन्हें सिखाइए कि पहले ऐसा होता था लेकिन अब हमें वैसा रवैया मंज़ूर नहीं है. उन्हें ताकत दीजिए कि वे ऐसे हालातों का मुकाबला करें जो उनकी ख़ुद्दारी पर लगातार चोट करते हैं. दूसरे, उनके लिए ऐसे साहित्य की रचना करते रहें जिससे उनमें आत्मगौरव का सूरज उगता रहे. यह बहुत ज़रूरी है. लेकिन यह कार्य करेगा कौन? बाहर से आकर कोई उनके 'आत्मगौरवं' या 'स्वाभिमानं' की बात नहीं करेगा. यह कार्य आपको ख़ुद करना होगा. इसके लिए आपको जानकार और लगन वाले लोगों की ज़रूरत होगी. उन्हें ढूँढिए. मुझे तो उनसे ही अधिक उम्मीद है जो आपका माज़ी ढूँढ लाए हैं. उन्हें लिखने की आदत भी है और वे बेहतर जानते हैं कि करना क्या है. या फिर यह उम्मीद उनसे की जा सकती है जो ढ़े-लिखे और प्रशिक्षित हैं और जिनकी जेब में चार पैसे भी हैं.

मैं यहाँ उनके नाम नहीं लिखना चाहता जिनसे मैंने प्रार्थना की थी कि वे मेघ समाज की कामयाबियों की कहानियाँ लिखें या उनके इतिहास के चमकदार पन्नों को अलग करके उनका संग्रह तैयार करें. नहीं जानता यदि उनमें से किसी ने कुछ सामग्री तैयार की है. जिन्होंने कुछ लिखा और मेरी जानकारी में आया वह इस ब्लॉग का हिस्सा बन चुका है.

जिन्हें अपनी 'पुरानी कहानी' अच्छी नहीं लगती उनकी भी ज़िम्मेदारी बनती है कि कम-से-कम वे तो अपनी 'नई कहानी' लिखें. भावी पीढ़ियाँ हमारी कीमत इस बात से नहीं लगाएँगी कि हमने एक दूसरे को कितना भला-बुरा (नकारात्मक) कहा बल्कि इस बात से उन्हें मदद मिलेगी कि हमने अच्छा क्या किया.

("जो अपना इतिहास नहीं जानते वे अपना

 इतिहास बना भी नहीं सकते." - डॉ. अंबेडकर

15 October 2016

Megh Day, Punjab Megh Community - मेघ दिवस, पंजाब मेघ कम्युनिटी

पिछले दिनों श्री यशपाल मांडले जी की facebook वॉल पर उक्त फोटो देखा जिसमें बैनर पर लिखा था - ‘Megh Day, Punjab Megh Community’. यानि पंजाब मेघ कम्युनिटी नाम की संस्था ने 'मेघ दिवस' का आयोजन किया था. मेरी जिज्ञासा बढ़ी और मैंने उन्हें फोन करके पूछा कि उन्हें उन दिनों 'मेघ-दिवस' मनाने का आइडिया कैसे आया? उन्होंने बताया कि यह संस्था उन दिनों महसूस कर रही थी कि मेघ कौम को डॉ.आंबेडकर की विचारधारा से दूर रखा गया है. संस्था की सोच यह थी कि डॉ.अंबेडकर की कोशिशों से ही मेघ समुदाय अनुसूचित जातियों की सूची में शामिल हो सका. इसलिए आभार प्रकट करने के लिए अंबेडकर के जन्मदिन 14 अप्रैल, 1984-85 का दिन चुना और उसी दिन को 'मेघ-दिवस' के रूप में मनाया गया. उक्त फोटो उसी का प्रमाण है.

संभव है तब मेघ समुदाय के कई दूसरे लोगों में भी डॉ. अंबेडकर और उनकी विचारधारा के प्रति रुझान और अहसानमंद होने का भाव रहा हो क्योंकि एडवोकेट हंसराज भगत ने डॉ. अंबेडकर के साथ मिल कर मेघों को अनुसूचित जातियों में शामिल कराने का प्रबंध किया था. डॉ. अंबेडकर के प्रति अहसान जताने की 'पंजाब मेघ कम्युनिटी' की यह कोशिश एक ऐसी पहलकदमी थी जो उन दिनों आर्यसमाजी विचारधारा वाले मेघों में एक खलबली ज़रूर पैदा करती. वजह का अंदाज़ा आराम लगाया जा सकता है. मांडले जी कहते हैं कि उनकी संस्था ने दो-तीन बार जो कार्यक्रमों किए उनका आर्यसमाजियों ने जम कर विरोध किया गया. फिर ऐसे कार्यक्रम करने की कोशिशें छोड़ दी गईं.


मांडले जी बताते हैं कि उन दिनों 'पंजाब मेघ कम्युनिटी' के प्रधान श्री चूनी लाल थे जो टेलिफोन विभाग से थे. आजकल इसके प्रधान श्री जी.के. भगत हैं जो दिल्ली में हैं. संस्था के कार्यक्रमों में चौ. चांद राम, मीरा कुमार जैसे नेता भी शामिल चुके थे. 1986 में संस्था ने राजनीतिक सक्रियता दिखाई और सियासी हलकों में अपनी माँगें उठाईं जिसे लोगों का समर्थन मिला. रणनीति के तौर पर संस्था ने अंबेडकर को राजनीतिक मार्गदर्शक और कबीर को धार्मिक गुरु के रूप में अपनाया और अपने कार्यक्रमों में दोनों के चित्र प्रयोग किए. आगे चल कर सामुदायिक कोशिशों से कबीर मंदिरों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई जिसे मेघों के कबीर की ओर झुकने और उन्हें अपनाने की प्रवृत्ति के तौर पर देखा जा सकता है. 'पंजाब मेघ कम्युनिटी' संस्था को फिर से सक्रिय करने की कोशिशें की कोशिशें की जाएँगी ऐसा मांडले जी ने बताया है.


स समय संस्था के सामने अपनी सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक तरक्की का लक्ष्य था लेकिन आर्यसमाज से जुड़े होने का कोई सियासी लाभ मेघ समाज को नहीं मिल पा रहा था. यह बड़ी वजह मालूम देती है कि मेघों और उनकी संस्थाओं ने कबीर को अपनाया. दस-दस घोड़ों के साथ निकलने वाली आर्यसमाजी शोभा-यात्रा अपनी चमक खोने लगी और कबीर की शोभा-यात्राओं का बोल-बाला होता गया. इस बीच मेघ समुदाय को कुछ राजनीतिक पहचान मिली है लेकिन एक पुख़्ता पहचान की अभी भी दरकार है.


ज़रूरत इस बात की है कि मेघ समुदाय में काम कर रही अन्य छोटी-बड़ी सामाजिक संस्थाओं की सामूहिक कोशिशें ज़मीन र दिखें. ऐसा तभी होगा जब वे सभी एक साथ मंच पर आएँगे और ख़ुद में सामूहिक फैसले लेने की काबलियत पैदा करेंगे.

(''हम इस बात पर सहमत हैं कि हम असहमत हैं. हम इस

 बात पर भी सहमत हैं कि हम फिर मिल कर बैठेंगे.'')


11 October 2016

Politician and Political worker - राजनीतिज्ञ और राजनीतिक कार्यकर्ता

राजनीति दुनिया के चार बड़े धंधों में से एक है. राजनीतिज्ञ (politician) किसी विचारधारा पर चलता है लेकिन समझौते भी करता चलता है, वह विचारधारा से हट भी जाता है ताकि सत्ता में बना रहे. उसके वादे कोई गारंटी नहीं देते. उसके अस्तित्व की सार्थकता सत्ता में या सत्ता के पास रहने में है. वह मुद्दों की छीना-झपटी करता है और मुद्दों का उत्पादन करता है. वह कसम तो संविधान की खाता है लेकिन कार्य पार्टी के एजेंडा पर करता है, जैसे - युद्ध, दंगे, गाय, हिंदुत्व, धर्म आदि. उसका कार्यकर्ता (political worker, activist) उसके एनेक्सचर-सा होता है, स्थान दोयम दर्जे का और कुल मिला कर इस्तेमाल करने योग्य. राजनीतिज्ञ की पहचान उसकी राजनीतिक समझ है और राजनीतिक कार्यकर्ता अपनी सामाजिक सक्रियता और सामाजिक कार्य से सम्मान पाता है. अपने नेता की गलती का परिणाम जनता के साथ-साथ कार्यकर्ता भी भुगतता है. जब कोई कार्यकर्ता ख़ुद राजनीतिज्ञ बन जाता है तो समाज को सीधे तौर पर नुकसान होता है.
 

05 October 2016

War hysteria - युद्धोन्माद

अपने जीवन में 1965 और 1971 के युद्धों का अनुभव हुआ जो बड़े पैमाने पर लड़े गए थे. 1965 के युद्ध के दौरान मैं 14 साल का था सो रेडियो पर देशभक्ति के गीत सुन कर उठते जज़बातों को महसूस करता था. घरों की बत्तियाँ बुझा दी जाती थीं. सायरन की आवाज़ पर हम खंदकों (trenches) में दुबक जाते थे. एक बार बमों के फटने की आवाज़ें सुनी. 1971 के युद्ध के दौरान युद्ध के वातावरण को बेहतर तरीके से देखा-समझा. रात में हम आकाश में उड़ते ट्रेसर देखते थे और अगले दिन अख़बारों में युद्ध की सुर्खियाँ पढ़ते. रात में या दिन में टैंकों, तोपों की मूवमेंट देखते. माल गाड़ियों पर रखे टैंकों के साथ जाते फौजियों को देख कर जोश भर-भर आता था. दिल करता था कि कोई पाकिस्तानी जासूस हाथ आ जाए तो उसे ढेर कर दें. एक शरीफ़ मलेशियन नागरिक हमारे हाथों पिटने से बच गया जिसके बारे में किसी ने अफवाह फैलाई थी कि वह पाकिस्तानी जासूस है. युद्ध रुका और युद्ध का पागलपन भी कम होता गया. कुल मिला कर 1971 का युद्ध एक अनुशासित लड़ाई थी. दोनों ओर आम नागरिकों के हताहत होने की खबरें न के बराबर थीं.

कारगिल की लड़ाई ज़रूरी थी लेकिन सीमित थी. वाजपेयी सरकार ने बड़ी कुशलता से बिना युद्ध का पागलपन फैलाए उसे जीता. बहुत से फौजियों की जानें गईं जो तकलीफ़ और दर्द दे गईं.

अब आया है एक सर्जिकल ऑपरेशन जो अपने साथ कई आंतरिक विवाद भी लाया. आमलोगों के लिए तकनीकी युद्ध की रणनीतियाँ रहस्य होती हैं लेकिन कूटनीतिक चालें, कूटनीतिक बयानबाज़ियाँ कई बार मनोरंजक मोड़ तक खिंच जाती हैं. युद्ध का पागलपन है तो सिविल क्षेत्र में अफवाहें फैलेंगी ही. बार्डर पर असल में क्या होता है यह केवल युद्ध लड़ रहे फौजी जानते हैं.

'सर्जिकल ऑपरेशन' को लेकर मीडिया से अधिक सोशल मीडिया में हलचल और परेशानीही. सरकार की कार्रवाई की प्रशंसा भी हुई और उस पर सवाल भी उठे. नेशनल मीडिया ने युद्ध के माहौल को गर्म करने के लिए हवा दी. सोशल मीडिया ने फौजियों की कुर्बानी और उनके परिवारों की पीड़ा को रेखांकित किया और सीमा पर बसे भारतीयों पर मंडराते ख़ौफ़ और उन्हें हो रहे आर्थिक नुकसान की बात की जो युद्ध का बहुत बड़ा साइड इफैक्ट है और अनेक परिवारों को गरीबी में धकेल जाता है.

कुल मिला कर युद्ध का पालपन फैला रहे कुछ चैनलों और 'भक्तों' पर तीखे सवाल उठे हैं. मैं भी मानने लगा हूँ कि बड़बोले नेतृत्व के मुकाबले इंदिरा गाँधी, अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह जैसा नेतृत्व अधिक कारगर और संतोषजनक होता है.
यह आदमी एटम बमों की धमकी देता है. बेवकूफों की कमी नहीं पाकिस्तान में.