08 March 2011

Aboriginals (tribes) of Hadappan Civilization - History Distorted in computer labs



At Meghnet and many more sites and blogs Indus Valley Civilization, most popularly known as Hadappan Civilization,  has been mentioned very frequently. It is about aboriginals of this great civilization presently rotting in interior of India. They are identified as scheduled castes, scheduled tribes and other backward castes (SCs, STs and OBCs) living in India. They call themselves 'Mulnivasis or Moolnivasis' of India. They have many things put on stake over such a great civilization which is said to have disappeared suddenly whereas disappearing theory was not the truth.  Much of their literature, history, religion etc. have been destroyed systematically. It includes distortions in manuscripts, defacement of inscriptions and figures on rocks. People strongly feel that many studies have been sponsored to prove that Aryan invasion never occurred. Now computer labs are being used for the purpose and there are very serious (brahmanical) efforts to make distortions in the images pertaining to Hadappan Civilization. See this link to believe it. It will help you understand the truth. May be there are many more efforts of this kind still going on.


Search for 'Horseplay in Harappa' on google
Hindi translation
मेघनेट (Meghnet) और कई अन्य साइटों और ब्लॉगों पर सिंधु घाटी सभ्यता, जिसे अब अधिकतर हडप्पन (Hadappan) सभ्यता कहा जाता है, का बहुत बार उल्लेख किया जाता है. इस महान सभ्यता का संबंध वर्तमान में भारत के भीतरी इलाकों में मानवाधिकारों से दूर रह रहे मूलनिवासियों से है. इन्हें भारत में रहने वाली अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़ी जातियों के रूप में पहचाना जाता है. ये भारत के 'मूलनिवासी' हैं. उक्त महान सभ्यता के बहाने से इनका बहुत कुछ दाँव पर है. कहा जाता है कि वह सभ्यता अचानक गायब या नष्ट हो गई थी जबकि वह सिद्धांत सच के सामने कहीं टिकता नहीं दिखता. मूलनिवासियों के साहित्य, इतिहास, धर्म आदि को क्रमिक तरीके से नष्ट किया गया, संबंधित पांडुलिपियों में प्रक्षिप्त अंश डाले गए  और शिलालेखों को विकृत किया गया. ऐसे कई अध्ययन प्रायोजित किए गए हैं जिनसे साबित किया जा सके कि आर्य आक्रमण कभी हुआ ही नहीं. कंप्यूटर लैब का प्रयोग इस प्रयोजन से किया गया और हडप्पन सभ्यता से संबंधित चित्रों को विकृत करने के लिए बहुत गंभीर (ब्राह्मणवादी) प्रयास किए गए. विश्वास न हो तो नीचे दिए लिंक पर देखें. यह सच्चाई को समझने में आपकी मदद करेगा. हो सकता है ऐसे और भी कई प्रयास किए गए हों/किए जा रहे हों.



This image is becoming new symbol of aboriginals
(Mulnivasis) of Indus Valley Civilization


See this link. Horses were brought by Aryans to Indus Valley region: 



Other links from this blog