27 November 2010

Unity and way to progress - सामुदायिक एकता और विकास-पथ


प्रो.राजकुमार और श्री एम.आर. भगत एवं अन्य प्रतिनिधि
किसी समुदाय के भीतर कार्य कर रहे विभिन्न सामाजिक संगठनों का मिल कर अपने कार्यक्रम बनाना समुदाय के विकास का अगला चरण माना जाता है. मेघवंशियों के जम्मू-कश्मीर स्थित मेघ-भगत समुदाय ने, मेरी जानकारी के अनुसार, पहली बड़ी संगठनात्मक पहल की है कि कई वर्ष से कार्यरत मेघ सुधार सभा’ (Megh Sudhar Sabha) और भगत महासभा’ (Bhagat Mahasabha)  ने मिल कर अपने कार्यक्रम बनाने का और सामाजिक उत्थान का संकल्प लिया है. परंपरावादी शक्तियों द्वारा कई नाम दे कर भयंकर रूप से बाँट दिए गए इस समुदाय में बहुत समय के बाद यह सकारात्मक लक्षण देखने को मिला. विश्वास होने लगा है कि पंजाब और जम्मू-कश्मीर में इस समुदाय के भीतर कार्य कर रहे अन्य पुराने और ढीले ढँग से चल रहे संगठन इससे प्रेरणा लेकर एकता और विकास को मिशन बनाएँगे. इससे युवा शक्ति बड़े पैमाने पर आ जुड़ेगी. रास्ता लंबा है और बेचैनी भी बहुत है. शिक्षा, जागरूकता और निरंतर कार्य भी चाहिए.

बधाई और सुनहरे भविष्य हेतु शुभकामनाएँ.

अधिक विस्तार के लिए ये लिंक देखें




25 November 2010

1500 Bhil Meena sacrificed their lives for independence - स्वतंत्रता के लिए 1500 भील मीणा हुए थे शहीद

Govind Guru


(This post is based upon an article published in a magazine ‘Meena Bharati’, September-October 2007 issue. I came to know about it through my colleague Vasundhara Meena. I am grateful to her.)

Govind Guru (Govind Guru) was born on December 30, 1858 in Basipa Village, District Dungarpur in a Banjara (gypsy) family. In the area of Bhils in Southern Rajasthan, Gujarat and Madhya Pradesh this aboriginal community was slave of two masters. They were slaves to the British but more sadly they were slaves to local feudal, vassals and petty self made kings those not only exploited this community but also went to the lowest levels of moral values to keep this tribe in abject poverty.  An incident of massacre on the occasion of a religious ceremony held at Mangarh hill is an apt example.

Guru Govind, a socially conscious and religious personality, had launched a different kind of struggle against social evils prevailing in Bhils and Garasis. At that time an organization named Samp Sabha was the symbol of unity of tribes in Gujrat. The number of devotees in the organization had reached 5 lakhs. A goal of this organization was to get their tribe free from the system of forced labor. The movement was getting momentum and was strong enough to end the rule of feudal and vassals etc. From the other end feudal and vassals were conspiring to crush it. They propagated that Guru Govind was a threat to British rule and got him arrested. The tribe took it as a challenge and they had to release Guru Govind. It did not end here. Atrocities against the tribals were increased. In addition to violent attacks the main objective was to shut down their schools. The British masters were misinformed and told that tribals had been organizing mutiny against the British rule and wanted to establish their own State. During that period one Bhil Punja Dhira killed a policeman (thanedar) of Gathra village, Santrampur, Gujrat because Thanedar was giving them brutal treatment and tribals were fed up with him. The incident was promoted as treason and military assistance from the British was requested.

In December 1908, like every year, a religious ceremony ‘Magh Purnima’ was prearranged on Mangadh hill. Bhil Meena (including women, children and old men) had gathered for religious ceremony. Those Bhil Meena, influenced by the freedom movement, were also raising slogans against the British, vassals, feudals and petty kings.

False rumors were spread that the half million Bhils had gathered on the hill and intended to attack Santrampur district. The army of the British and the feudal surrounded the hill from three sides and millions of unarmed people were indiscriminately fired at. In order to save their lives many people ran towards Khaidapa valley and were killed in stampede.

It is said that 1500 Bhil Meena died in this massacre. (Most of the references mention 1500 as the number). After the massacre the area was declared ‘restricted area’. The purpose was to destroy evidence and prevent documentation. But - "Blood is blood after all, if dropped it remains in earth.” Now people celebrate this martyrdom day on 17 November every year. 

In Jallianwala Bagh incidence 379 people had died. Shouldn’t Mangadh incidence be given the same place in history as was given to Jallianwala Bagh incidence? These brave people are aboriginal tribe of India. Is their sacrifice and sense of freedom less important? 

This struggle makes the real sense of 'Vande Mataram' of freedom struggle of Bhils because this land belongs to them. They are aboriginals of this land. Their struggle is not yet over. Their land is still grabbed and the law is not in their favor. 

Mangadh Hill is undoubtedly memorial of martyrs of Independence. Magh Purnima festival is held even today.

Another reference can be seen on the blog of Mr. Madhav Hada. (It was reported by Mr. Pramod Pal Singh) -> धूणी तपे तीर: Author Mr. Hariram Meena


(यह पोस्ट एक पत्रिका मीना भारती के सितंबर-अक्तूबर 2007 के अंक में छपी थी जिसकी जानकारी मुझे अपनी सहकर्मी वसुंधरा मीणा (Vasundhara Meena) से मिली. उनके प्रति आभार)


30 दिसंबर 1858 में बासीपा ग्राम, ज़िला डूँगरपुर (Dungarpur) के एक बंजारा (gypsy) परिवार में गोविंद गुरु (Govind Guru) का जन्म हुआ था. दक्षिणी राजस्थान, गुजरात और मध्यप्रदेश में भीलों का क्षेत्र दो तरफा गुलामी झेल रहा था. अंग्रेज़ों की और उनके एजेंट स्थानीय रजवाड़ों, सामंतों, जागीरदारों आदि की जो स्वयं तो इनका शोषण करते ही थे साथ ही इन्हें गरीबी की हालत में रखने के लिए हद दर्जे तक गिर जाते थे. इसका एक उदाहरण मानगढ़ (Mangarh) पहाड़ी पर धार्मिक समारोह के दौरान हुए भीषण नरसंहार (massacre) की घटना में देखा जा सकता है.

सामाजिक रूप से जागरूक और धार्मिक व्यक्तित्व वाले गोविंद गुरु, भीलों और गरासियों (Garasi) में व्याप्त कुरीतियों से एक अलग लड़ाई लड़ रहे. तब गुजरात में गठित संप सभा (Samp Sabha) आदिवासियों (tribes) की एकता का प्रतीक थी. इस सभा में भक्तों की संख्या 5 लाख तक पहुँच चुकी थी. इस सभा का एक लक्ष्य आदिवासियों से कराई जा रही बेगार (forced labor) से मुक्ति प्राप्त करना था. यह सामंतों, रजवाड़ों की ज़ड़ों को हिलाने वाला आंदोलन बन रहा था. वे इसे कुचलने का षडयंत्र रच रहे थे. उन्होंने गोविंद गुरु को एक खतरा बता कर गिरफ्तार कराया परंतु आदिवासियों ने इसे चुनौती के रूप में लिया और गोविंद गुरु को रिहा करना पड़ा. इसका अंत यहीं नहीं हुआ. इसके बाद आदिवासियों पर अत्याचार बढ़ा दिए गए. हिंसात्मक हमलों के अलावा उनकी पाठशालाओं को बंद कराना एक बड़ा प्रयोजन था. अंग्रेज़ आकाओं के सामने यह रोना रोया गया कि आदिवासी राजद्रोह करके एक अलग राज्य की स्थापना करना चाहते हैं. इन्हीं दिनों गठरा गाँव, संतरामपुर (Santrampur), गुजरात (Gujrat) के एक क्रूर थानेदार की हरकतों से तंग आ चुके भील पूँजा धीरा (Punja Dhira/Poonja Dhira) ने उसकी हत्या कर दी. इसे राजद्रोह के तौर पर प्रचारित किया गया और अंग्रेज़ों से सैनिक मदद माँगी गई.

प्रति वर्ष की भाँति दिसंबर 1908 में माघ पूर्णिमा के दिन मानगढ़ पहाड़ी पर धार्मिक समारोह पूर्वनिर्धारित था. धार्मिक समारोह के लिए भील मीणा (स्त्रियों, बच्चों, बूढ़ों सहित) एकत्रित थे. स्वतंत्रता आंदोलन से प्रभावित वे भील मीणा अंग्रेज़ों, जागीरदारों, सामंतों और रजवाड़ों के विरुद्ध भी आवाज़ उठा रहे थे. झूठी अफ़वाह फैला दी गई कि पहाड़ी पर एकत्रित होने वाले डेढ़ लाख भील संतरामपुर जिले पर हमला करने वाले हैं. अंग्रेज़ और सामंती सैनिकों ने पहाड़ी को तीन ओर से घेर लिया और निहत्थे आदिवासियों पर गोलियों की बौछार कर दी. लाखों लोगों पर अंधाधुँध गोलीबारी की गई. जान बचाने के लिए कई लोग खैड़ापा खाई की ओर भागे और भगदड़ में मारे गए. इस कांड में कहा जाता है कि गोलीबारी में 1500 भील मीणा शहीद हुए. (अधिकतर संदर्भों में यह संख्या 1500 ही बताई गई है) नरसंहार के बाद इस क्षेत्र को प्रतिबंधित क्षेत्र घोषित कर दिया गया. इसका उद्देश्य साक्ष्य मिटाना और दस्तावेज़ीकरण को रोकना था. लेकिन- ख़ून फिर ख़ून है, टपकेगा तो जम जाएगा.’ अब हर वर्ष अंग्रेज़ी माह नवंबर की 17 तारीख को उन शहीदों को यहाँ श्रद्धांजलि देने के लिए लोग एकत्रित होते हैं.

जलियाँवाला काँड (Jallianwala Bagh) में 379 लोग शहीद हुए थे. उसे इतिहास में जो जगह दी गई है क्या मानगढ़ काँड को उससे अधिक महत्व का स्थान नहीं मिलना चाहिए था? ये शहीद लोग भारत के मूल निवासी हैं. इनकी आज़ादी की भावना या स्वतंत्रता के लिए दी गई प्राणों की आहुती क्या कम महत्वपूर्ण है? यह आंदोलन काँड बंकिमचंद्र चट्टोपाध्याय (Bankim Chandra Chatterjee) के उपन्यास आनंदमठ’ (Anandmath) में लिखे राष्ट्रगान वंदेमातरम्’ (Vande Matram) को सही संदर्भ देता है कि भारत के मूलनिवासियों का स्वतंत्रता-सघर्ष अभी चल रहा है. उनकी ज़मीनें आज भी छीनी जा रही हैं और कानून उनकी मदद नहीं करता.

मानगढ़ पहाड़ी निस्संदेह स्वतंत्रता के दीवाने शहीदों का स्मारक (Monument of Martyrs) है. माघ पूर्णिमा का मेला आज भी आयोजित होता है.
The monument
श्री माधव हाड़ा (Madhav Hada) के ब्लॉग पर इसका एक संदर्भ इस प्रकार है (इसकी सूचना श्री प्रमोद पाल सिंह ने अपनी टिप्पणी से दी है) --धूणी तपे तीर : लेखक श्री हरिराम मीणा (Hariram Meena)



Further reading:

21 November 2010

Dalit Media-1 - Small news papers - दलित मीडिया-1 - छोटे समाचार पत्र

प्रत्येक समाज का सपना होता है कि उसका एक अपना समाचार-पत्र या पत्रिका हो जो उसकी तस्वीर को सही तरीके से प्रस्तुत करे. समाजिक छवि, आर्थिक समर्थन, राजनीतिक पैठ आदि जैसे मामलों में समुदाय की बात को सही जगह पहुँचाने में सक्षम हो. वैवाहिकी (matrimonial), विज्ञापन, नौकरी की तलाश आदि में सहायक हो. सबसे बढ़ कर समुदाय को शिक्षित करने और सही तथा शीघ्र सूचनाएँ देने का कार्य कर सके. इन दिनों कई पिछड़े समुदाय इस बात के बारे में भी गंभीरता से प्रतिक्रिया करने लगे हैं कि राष्ट्रीय माडिया उनकी बात को सही परिप्रेक्ष्य में नहीं उठाता. ऐसे में उन्होंने नयूज़लेटर जैसे समाचार-पत्रों का प्रकाशन का सहारा लिया है. कुछ ऐसे पत्र मुझे मिले हैं जिन्हें यहाँ प्रदर्शित कर रहा हूँ. उनकी कुछ विशेषताएँ (समीक्षा नहीं) यहाँ दे रहा हूँ.



उदय मेघ’ (Uday Megh)जयपुर, राजस्थान से निकलने वाला एक ऐसा ही पत्र है. इसमें मेघवंशी समुदायों से संबंधित सामाजिक समस्याओं तथा विकासात्मक गतिविधियों के समाचार देखने को मिले. यह साप्ताहिक पत्र है.



आपका दोस्त (Apka Dost) नूरपुर, हिमाचल प्रदेश से छपता है. इसमें काफी विज्ञापन छपे हैं परंतु इनसे कितनी आय हो पाती होगी यह केवल अनुमान का विषय है. इस पत्र में समाचारों की विविधता बहुत है. लोकप्रिय विषयों का विशेष ध्यान रखा गया है.



राजा बली समाज छपाई की दृष्टि से काफी साफ-सुथरा है. इसकी सामग्री का स्तर बेहतर जान पड़ा. वैवाहिकी को समुचित स्थान दिया गया है. मुख्यतः सामाजिक विषयों को छूते आलेख इसमें दिए गए हैं. यह इंदौर, मध्यप्रदेश से प्रकाशित होता है और मासिक है.












वॉयस ऑफ़ बुद्धा’ (Voice of Buddha) पाक्षिक पत्र है जो ऑनलाइन भी है. यह अंग्रेज़ी और हिंदी दोनों में जानकारी प्रदान करता है. इसके द्वारा दिए गए आँकड़ों की विश्वसनीयता इसका सकारात्मक पक्ष है. यह यूनीकोड में नहीं है अतः फाँट डाऊनलोड किए बिना इसे पढ़ना संभव नहीं.


'हक़दार' बीकानेर से छपता है. यह 1969 से छप रहा है. अद्भुत. सामग्री के हिसाब से अच्छा लग रहा है. इसके संपादक हैं पन्नालाल प्रेमी. (इसे मैंने 06-01-2011 को देखा है).

आज ही मेघयुग पर इस विषय पर पोस्ट आई है जो इस लिंक पर उपलब्ध है- मेघयुग. धन्यवाद प्रमोद पाल सिंह जी.


तिथि 20-09-2011


आज एक पोस्ट के माध्यम से 11-09-2011 से मेघधारा (Meghdhara) के प्रकाशनारंभ संबंधी पोस्ट भी लिखी है. यह समाचार-पत्र मुख्यतः गुजराती और अँग्रेज़ी में छपेगा.



आज 05-12-2011 

राजस्थान से एक समाचार पत्र 'दर्द की आवाज़' प्राप्त हुआ है जो रंगीन छपाई वाला है. इसके इस अंक से इसकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा स्पष्ट है. शुभकामनाएँ.


आज 20-08-2012 को 


1. फेस बुक के माध्यम से श्री कामता प्रसाद मौर्य ने सम्यक् भारत पत्रिका के बारे में जानकारी दी है. इसके एक टाइटल का चित्र श्री प्रभु दयाल (सुश्री मायावती के पिता) के हाथों में है जिसे देख कर सुखद आश्चर्य हुआ. दलित मीडिया विकसित हो रहा है.
कामता प्रसाद मौर्य जी का बलॉग बन चुका है आशा है इस पर हमें जानकारी पूर्ण आलेख मिला करेंगे.


3. फेस बुक से श्री गुणेश राठौड़ ने जानकारी दी है कि बाड़मेर से एक पत्रिका 'मेघवंश नवयुग' नामक पत्रिका का प्रकाशन शुरू हुआ है जिसका पहला अंक फरवरी 2012 में आया है. इसके मुख्य संपादक डॉ. नारायण मेघवाल हैं और इसका प्रकाशन जनहितकारी सीमांत संस्था, बाड़मेर (राजस्थान) कर रही है.
अधिक जानकारी मिलने पर उसे यहाँ देना चाहूँगा.

04 सितंबर 2012 को श्री आर.पी. सिंह ने ये प्रकाशन भेजे हैं-
मेघवंश कोलेरियन परिवार से संबंधित हैकोलेरियन मतलब कोली, कोरी, बुनकर परिवारइसी परिवार ने उरईउत्तर प्रदेश से एक पत्रिका 'झलकारी परिवार संदेश' (Jhalkari Parivar Sandesh) का प्रकाशन शुरु किया है





MEGHnet


18 November 2010

Jhalkari Bai was a Meghvanshi - झलकारी बाई मेघवंशी थी



रामसा कङेला मेघवॅशी की फेसबुक वॉल से यह चित्र लिया गया है.
A month ago I got a call from Pritam Bhagat, Pathankot. Citing a book he told that there was a Megvanshi Amazon in the army of Rani Lakshmi Bai of Jhansi. She resembled the queen. I found reference on a blog. There was yet another reference on Wikipedia. Jhalkari Bai belonged to Kori community. She helped Lakshmi Bai escape from the fort and after that she fought bravely as Queen and was killed while fighting. Government of India issued a stamp in her honor. This is an example that Megvanshi men and women have their identity as brave warriors in the forces.

महीना भर पहले मुझे पठानकोट से श्री प्रीतम भगत का फोन आया था. उन्होंने एक पुस्तक का संदर्भ देते हुए कहा था कि एक मेघवंशी वीरांगना झांसी की रानी लक्ष्मी बाई की सेना में थी और उसकी हमशक़्ल थी. आज उसके बारे में एक ब्लॉग के माध्यम से संदर्भ मिला और विकिपीडिया से दूसरा संदर्भ भी मिल गया कि वे कोरी (मेघवंशी) समुदाय की थी. लक्ष्मी बाई को किले से बच कर निकलने में उसने न केवल सहायता की बल्कि उसी के रूप में वीरता से लड़ते हुए वहीं शहीद हुई. भारत सरकार ने उसके सम्मान में एक डाक टिकट भी जारी किया था.  दोनों संदर्भ नीचे दिए गए हैं. यह एक उदाहरण है कि मेघवंशी पुरुष और महिलाएँ योद्धा के रूप में सेनाओं में अपनी पहचान रखते रहे हैं.


2. झलकारी बाई Retrieved on 18-11-2010

3. यू-ट्यूब पर झलकारी बाई Retrieved on 18-11-2010

4. झलकारी बाई -  बुंदेलखंड की वीरांगना


(22-11-2012 को फेस बुक से प्राप्त जानकारी

Kuldeep Wasnik)

"4 जून 1858 को जनरल ट्युरोज के शब्द थे "अगर हिंदुस्तान की एक फीसदी लड़कियाँ भी झलकारी की तरह हो जाए तो हमे ये देश छोड़कर भागना पड़ेगा".


लक्ष्मीबाई कभी भी अंग्रेजों से नहीं लड़ी बल्कि उसके भेष में बहुजन समाज की कोरी जाति की झलकारी देवी ही बहादुरी से लड़ी. बल्कि लक्ष्मीबाई किले के भंडारी गेट से भागती हुई मारी गई. ब्राह्मण इतिहासकारों ने झांसी की ब्राह्मणकन्या लक्ष्मीबाई, जो कि रानी भी नहीं थी बल्कि मामूली जागीरदारन थी, को न केवल रानी करार दिया बल्कि उसके किले के तट से घोड़े के साथ छलाँग लगाने की बात का भी झूठा प्रचार किया. लक्ष्मीबाई को घोड़े पर ठीक से बैठना भी नहीं आता था. घोड़े पर बैठने के लिए उसे सहायकों की मदद दरकरार थी अंग्रेजों के हमला करने के बाद अंग्रेजों से लड़ना तो दूर वह अपनी जान बचाने भाग खड़ी हुई. उसके बावजूद झलकारी देवी की युद्ध कला में निपुणता निर्भीकता और वीरता देख कर अंग्रेज सेनापति आश्चर्यचकित हो उठे. ऐसी महान वीरांगणा झलकारी देवी का जन्म 22 नवंबर 1830 को झाँसी जनपद के भोजला ग्राम में तीरंदाज सदोबा अहीरवार कोरी परिवार में हुआ था. आज उनकी 182 वीं जयंती पर उनकी स्मृति को विनम्र अभिवादन."


मचा झाँसी में घमासान चहुँ ओर मची किलकारी थी

अँग्रेजों से लोहा लेने रण में कूदी झलकारी थी

मचा झाँसी में घमासान चहुँ ओर मची किलकारी थी

अँग्रेजों से लोहा लेने रण में कूदी झलकारी थी

जाकर रण में ललकारी थी वह तो झाँसी की झलकारी थी

गोरों से लड़ना सिखा गयी रानी बन जौहर दिखा गयी है



इतिहास में झलक रही वह भारत की सन्नारी थी

(फेस बुक से आर.डी. पांधी के सौजन्य से)


मेघवंशी कोलेरियन मानव से संबंधित माने जाते हैं. मेघवंशी मतलब कोली, कोरी, बुनकर समुदाय. इसी समुदाय के कुछ उत्साही सदस्यों ने उरई, उत्तर प्रदेश से एक पत्रिका 'झलकारी परिवार संदेश' (Jhalkari Parivar Sandesh) का प्रकाशन शुरु किया है. आप भी इस से जुड़ सकते हैं