27 August 2014

The weaver/Julaha in Law of Evidence - साक्ष्य विधि में जुलाहा/बुनकर

"3772 , LAW OF EVIDENCE [App- IV

The Weaver. In all parts of India the stupidity of the weaver, especially of the Mohammadan weaver (julaha), is the staple subject of proverbial philosophy. His loom being sunk in the ground, is said to dig a pit and fall into it himself. If he has a pot of grain he thinks himself a Raja. He goes out to cut grass when even the crows are flying home to roost. He finds the hind peg of a plough, and proposes to start farming on the strength of it. If there are eight Jolahas and nine Huqqas, they fight for the odd one. The julaha goes to see a ram fight and gets butted himself. Being one of a company of twelve who had safely forded a river, he can only find eleven, as he forgets to count himself, and straightway goes off to bury himself in the belief that, as he is missing, he must be dead. Some julahas walking across country come to a field of linseed looking blue in the moonlight; they wonder how deep the water is and hope that all of them can swim. A julaha gets into his boat and forgets to weigh the anchor; after rowing all night he finds himself at home and rejoices in the thought that the village has followed him out of pure affection. A crow snatches a piece of bread from a ]ulaha‘s child and flies with it to the roof; the prudent father takes away the ladder before he gives the child any more. A julaha hears the Koran being read and bursts into tears; or being asked what passage moves him so, he explains that the wagging beard of the Mulla reminded him of a favorite goat that he had, lost. When his dogs bark at a tiger, he proceeds to whip his child, He has no sense of propriety, he will crack indecent jokes with his mother and sister and his wife will pull her father's beard. As a workman he is dilatory and untrustworthy. He will steal a reel of thread when he gets the chance he has his own standard of time; he lies like a Chamar. And even if you see ‘him brushing the newly woven cloth, you must not believe him when he says that it is ready."
ऊपर दिया गया चित्र Law of Evidence (commentary), Woodroffe and Amir Ali की पुस्तक (Appendix-IV, page 3772) का है. यह पुस्तक के एक पुराने संस्करण से लिया गया है. कहते हैं कि अंग्रेज़ जजों को भारतीय जाति समूहों के बारे में कम जानकारी होती थी सो उनकी सहूलियत के लिए ये जानकारियाँ इस रूप में दर्ज करके उपलब्ध कराई जाती थीं. ऐसी जानकारियाँ देने के पीछे कौन सी मानसिकता कार्य कर रही थी इसका अनुमान सहज लगाया जा सकता है. सुना है नए संस्करणों में ऐसा विवरण नहीं है. यदि आपको मिले तो कृपया बताएँ.


MEGHnet   

24 August 2014

A distant story of Meghs – मेघों की दूरस्थ कथा

IndiaNetZone में मेघों का उल्लेख इस प्रकार मिलता है:-

There is also found settled in Kashmir the class of Harijans called Meghs, Ghamiars and Dumbs. They form a more than fair proportion of the population and have undergone numerous disabilities, civic and religious. The equalizing influence of education, which brings about tolerence and fellow-feeling, has, however, paved the way for a steady improvement of their social status. There are several interesting theories regarding the origin of the Meghs. According to one, they were originally Kshatriyas but, in order to escape destruction at the hands of Paras Ram Brahmin of the Ramayana period, they adopted the profession of weaving and called themselves Meghs. Another theory holds that their proginitors were Brahmins but a cow once died in the house of one of them and, there being nobody to remove the carcass, this loathsome task was undertaken by a member of the caste who was subsequently expelled from the community. Others also suffered a similar fate for one reason or another and the expelled individuals came to form the separate caste of Meghs.


मेरे नोट्स-

किसी भी मानव समूह की सामाजिक स्थिति उसकी नागरिक और धार्मिक योग्यता ही तय करती है. इस दृष्टि से मेघों की स्थिति उस योग्यता की शर्तें पूरी नहीं करती थी या उनकी योग्यता को बलपूर्वक निम्न स्थिति में रख कर उनसे निम्न कार्य लिया जाता रहा.

शिक्षा की समाज में एक भूमिका यह होती है कि वह सहनशीलता और भ्रातृत्व की भावना लाती है. यह सर्वविदित है कि मेघों को धर्म के तहत बनाए गए प्रावधानों के कारण शिक्षा से वंचित कर दिया गया था ताकि वे बेहतर कार्य की योग्यता प्राप्त न करें. अब उनकी सामाजिक स्थिति में काफी सुधार आया है हालाँकि वह अभी भी अपेक्षानुरूप नहीं है, विशेषकर ग्रामीण इलाकों में.

मेघ कहाँ से आए हैं यह एक प्रकार का कठिन प्रश्न रहा है. इनके मूल को ढूँढने और पहचानने की कोशिशें अठारहवीं शताब्दी में तेज़ हो गई थीं. लेकिन यह कार्य मेघों के द्वारा नहीं बल्कि अन्य के द्वारा ही किया गया.

ऊपर के संदर्भ में एक बात स्पष्ट होती है कि जिस प्रकार से भी हुआ हो या किया गया हो मेघों में अपने मौखिक इतिहास या पौराणिक कहानियों के आधार पर मूल को बताने की परंपरा रही है. चाहे वे स्वयं को ब्राह्मणों से निकला बताते हों या परशुराम से त्रस्त क्षत्रियों से निकली जाति बताते हों वे दोनों स्थितियों में ब्राह्मणों और क्षत्रियों की श्रेष्ठता को स्वीकार करते दिखते हैं. इसी संदर्भ से यह भी पता चलता है कि परशुराम के भय से मेघों ने शस्त्र त्याग कर वस्त्र बुनने का कार्य करना शुरू किया और स्वयं को मेघ कहने लगे. रामायण की यह पौराणिक कथा कितनी विश्वसनीय है इसके बारे में इतिहासकार स्पष्ट हैं कि इन्हें इतिहास नहीं कहा जा सकता. अविश्वसनीय संदर्भ से विश्वसनीय जानकारी मिलने की संभावना कितनी हो सकती है.

दूसरे सिद्धांत/मतानुसार मेघ ब्राह्मण थे. उन्हीं में से एक ब्राह्मण ने अपनी मरी हुई गाय को, किसी की सहायता न मिलने के कारण, खुद ही ठिकाने लगाया. उसे आगे चल कर समुदाय से निकाल दिया गया. कई अन्य लोगों को भी एक या दूसरे कारण से समुदाय से निकाला गया. ऐसे में इन निकाले गए लोगों ने आगे चल कर अपना एक समूह बना लिया जो मेघ जाति कहलाई. इस कहानी से कुछ सवाल स्वाभाविक उठते हैं:-

जब मरी गाय को ठिकाने लगाने का कार्य इतना घटिया माना जाता था कि उन्होंने अपने बिरादरी भाई को ऐसा काम करने पर जाति से निकाल दिया तो ज़ाहिर है कि ऐसा कार्य करने (मरे पशुओं को उठाने) वाले लोग ब्राह्मणों से अलग लोग रहे होंगे. वे कौन थे? क्या वे भी मेघ थे? यदि नहीं तो ब्राह्मण जाति से निकाले गए ये लोग मरे पशुओं को उठाने वाले उन लोगों से ऊँची जाति में रखे गए, बराबर रखे गए या उनसे नीचे रखे गए? जातिवाद की परंपरा में इसके कई झूठे-सच्चे तुके-बेतुके जवाब दिए जा सकते हैं. इसी कहानी के क्रम में कहें तो यदि एक प्रभावशाली भाई ने दूसरे भाई के हिस्से पर कब्ज़ा करने के लिए उसे जाति से निष्कासित किया/कराया होगा और लोगों ने मान भी लिया होगा तो यह किस काल में हुआ इसका उल्लेख उक्त संदर्भ में नहीं है. अतः इस वर्णन को हम इतिहासपूर्व के (Prehistoric) मेघ कह कर आगे चल सकते हैं. लेकिन इतने से तसल्ली तो नहीं ही होती है

MEGHnet   

21 August 2014

Meghs of Himachal Pradesh - हिमाचल प्रदेश के मेघ

Sh. Tararam, via email, shared material on Meghs of Himachal Pradesh, as narrated in The Global Encyclopedia of North Iindian Dalits - Ethnography-


MEGH

(Dalit community of Himachal Pradesh)


"The Megh or Meg or Mihngh stands for 'weaving.' The etymology is also drived from Megh (cloud) as it is said these people had mystical power to stop or call clouds (rains). According to Ibbetson (1916) and Rose (1919), the Meghs were considered Chamars, but were placed higher in social ranking than leather workers. The people, however, claim Brahmanical descent and like Brahmans perform the kriyakaram on the eleventh day. But the history of origin and migration of the community is not known. The Community has been classified among the Scheduled Caste."

"Demography: Geographical Area-
It perceives it distribution at regional level specially in the bordering areas of Punjab. They are almost confined to the Kangra and Chamba districts in the Himachal Pradesh. The population according to 1981 census of India is 1485. They live in a valley of the Himalayan foothills experiencing a warm and temperate climate. The area is covered with orchards of a variety orange bushes known as kenu. They speak Punjabi and Kangri or a mixture of the two; and write in Devanagari as well as Gurumukhi scripts. Devanagari is presently more in practice than Gurumukhi. Some older men also read and write urdu (Persio-Arabic script)."

Food and Drinks-
hThe Meghs are occasionally non-vegetarian in food habits eating eggs, fish and meat. But in daily routine vegetables and pulses predominant in their food intake. Their staple food is mainly wheat. Rice is eaten about twice a week, and so is maize. Pulses of different types like urad, moong, masur, kulthi, peas, beans and gram are frequently consumed. Various types of seasonal vegetables, roots and tubers are also consumed. The cooking medium is mustered oil or vegetable or desi ghee. Milk and milk products are frequently in use. Fruit intake is moderate, and fruits like kenu, banana, papaya, guava, mango, apple, peach, toot, berry, etc. are commonly eaten during the season. Food taboos exists. The followers of Radhaswami mission do not consume non-vegetarian food and liquor. Similarly such foods are also not eaten during death pollution and on certain socio-religious festivals. Alcoholic drinks are occasionally consumed by some. Men smoke bidi, cigrate, or loose tobacco in hukka. Festive food preparation are kheer and halwa, bhalle, kachauri, puri and bhatura of wheat flour, sag with butter and maize roti, etc."

"Dress and Ornaments-
Their dress is similar to that of other neighbouring people. Men wear a kurta and payajama or pout and women a kurta, salwar and chunni/dupatta. Common ornaments of women are tili/koka or nath, ear rings or stud, golden chain with locket, finger ring and golden bangles."

"Social system-kinship:
Rose (1919) has mentioned Basith as a group of the Megh but having higher social position with respect to other Meghs. But during the present study the community did not speak about any social hierarchical pattern and indicated its groups into different gots (gotra), such as: Khokar, Bogle, Sepahiye, Panjgotre, Mianmandle, etc. though Rose (1919-79) has listed 31 names as the gots of the Megh. These are used as exogamous units to regulate marriages and also suggest ancestry/descent of from a particular lineage. The Brahmanical descent of Megh is not accepted by their neighbours and most of them also do not assert such a status but safely put themselves in the sudra varna of the Hindus locally, they are regarded as at par with the neighbouring Labana, the Arya and the Lohar with whom they exchange food and water."

"Marriage and Divorce-
The Meghs are endogamous and follow the rule of got and village exogamy. Mates are acquired through negotiations and with or without exchange of sisters. Marriages occur in adulthood as in the past puberty age but some decades ago pre-puberty or child marriages were quite frequent. Bride price also existed to some extent in the past but presently they perform Kanyadan and also give some dowry in the form of articles of domestic use, clothes and ornaments. Monogamy is practised but man may acquire another wife in case of guilelessness or no male issue from the first wife. The symbols of marriage are sindur, bangles and nose and ear ornaments. The bride lives patrilocally. Dissolution of marriages is usually not permitted in the community and is considered bad. But it may occur as per the judicial approval if either of spouses proceeds to court on ground of mal-adjustment, cruelty etc. In such cases the father is liable to support the children and pays compensation maintenance and to the woman."

"The divorce remarriage may occur in the community and junior lev-irate is allowed but seldom occurs. Men may marry a junior sororate or any other woman. The main changes in marriage institution are increase in age at marriage and practice of dowry. Incidence of divorce does not show any trend but a liberal attitude for judicial approval has developed."

"Family-
The family pattern is vertically extended joint system but presently the joint families are breaking down and going way to the nuclear types. Usually the sons do not get separated as long as father is alive or all family members are married. The elder are respected and obeyed by junior members as a tradition. But conflicts do arise at times on matters related to property and due to social conservatism towards the son's wife by her mother in law and nanad and due to unfair or unequal division of labour. The avoidance relationship of the nuh/bahuti exists with her saurah, jeth, nandoi and elderly male of the village community. Joking relationship exists between devar and bhabhi, jija and sali, nanad-bharjai. Parantal property is inherited on male lines as per the rule of male equigenture. At the father's death the eldest sons becomes the successor, though for all practical purposes the mother plays a dominant role."

"Women Status-
The status of women remains lower than that of men and women do not seek any employment or do not participate in money earning activity and also have no role in the mechanism of social control or in political matters. Hence, recently the some women have made mahila mandal which aims to discuss problems of women and provide facilities of common interest to the village. They do all domestic jobs, fetch potable water, participate in agricultural and animal husbandry and collect fuel and fodder. They control family expenditures and have some say in domestic decision making. They also participate in social and religious ceremonies."

"Rites and Rituals- Birth:


The life cycle rituals are performed as per the Hindu tenets by their own community priest. Many birth rituals have lost significance or are being ignored, pre-birth rituals are not observed but the women is asked not to employed but provision do exist..."


MEGHnet  

18 August 2014

Meghwal Samaj and Dr. Ambedkar - मेघवाल समाज और डॉ आंबेडकर

(This post is contributed by Sh. Tararam)

1.

परम पूज्य बाबा साहेब डॉ आंबेडकर ने शोषितों, दलितों, वंचितों, श्रमिकों और महिलाओं के उत्थान हेतु अनथक प्रयत्न किये। उनके इस आन्दोलन में सम्पूर्ण भारत में 'मेघवाल समाज' ने एकजुट होकर उनके मार्ग-निर्देशों का पालन किया। बाबा साहेब डॉ आंबेडकर से मेघवाल समाज की दुर्दशा छुपी हुई नहीं थी। कई लोग उन्हें पत्र भेजकर, कई लोग उनसे मिलकर एवं कई लोग सभा-सम्मलेन करके मेघवाल समाज की समस्याएँ बाबा साहेब के सामने रखते थे। बाबा साहेब जब 'बहिष्कृत भारत' पत्र का प्रकाशन करते थे, तो उनके सामने इस समाज ने अपनी तकलीफें बयान की और मार्गदर्शन माँगा। 'बहिष्कृत भारत' के 4 नवम्बर 1927 के अंक में बाबा साहेब ने इस समाज को जागृत करते हुए बताया कि जुल्मों से छुटकारा पाने के लिए और समाज में अपना ओहदा बढाने के लिए हमें मनन-चिंतन करना चाहिए व उस रास्ते पर चलना चाहिए, जिस पर चलने से हमें अमन-चैन मिले।

'बहिष्कृत भारत' के 4 नवम्बर 1927 के अंक में मेघवाल समाज पर बाबा साहेब ने जो लिखा, वह महाराष्ट्र सरकार, बम्बई द्वारा प्रकाशित "बाबा साहेब डॉ. अम्बेडकर राईटिंग्स एंड स्पीचेस" के वॉल्यूम 19 के पृष्ठ 298-299 पर मूलपाठ मराठी भाषा में उपलब्ध है, जिसका अविरल हिंदी अनुवाद पाठकों की जानकारी हेतु दिया जा रहा है-

"मध्य भारत और राजपुतानें में मेघवाल नाम का एक 'अस्पृश्य वर्ग' पीतल के दागीणे (गहनें) वापरता (पहनता) रहा है। इनमें जिनकी माली हालात ठीक है, जो अपेक्षाकृत सुखद स्थिति में रहने वाले हैं, उनको पीतल के गहने पहनने में लज्जा अनुभव होती है। यह सहज-स्वाभाविक है कि अपनी हैसियत के अनुसार पोशाक और रहन-सहन हो। इस नियम से मेघवाल समाज ने चांदी के गहने पहनना शुरू किया। खरोखरी या सच बात तो यह है कि सोने के गहनों की जगह चाँदी के गहने पहनने पर भी इस समाज को क्या मिला? - इनको स्थानीय सवर्ण हिन्दुओं की प्रताड़ना (संताप) झेलनी पड़ी अर्थात वे सवर्णों द्वारा सताये जाने लगे। मेघवाल समाज द्वारा चांदी के आभूषण पहनना हिन्दुओं को अखरने लगा और हिन्दू इसे अपना अपमान समझने लगे। इससे उन्होंने (हिन्दुओं ने) मेघवाल जाति से छल करना शुरू कर दिया। इस अंक की दूसरी कड़ी में वल्हाड़ प्रान्त के दो गृहस्थियों के पत्र प्रकाशित हुए हैं, जिससे उनकी करुण-कहानी स्वतः स्पष्ट होती है। जिन अस्पृश्यों को विपन्न स्थिति में (त्राहि-त्राहि करने) छोड़ दिया था, वह समाज ठीक (स्वच्छता से) रहता है तो हिन्दुओं को उनका ऐसा रहना व करना अपराध लगता है अर्थात सवर्ण हिन्दुओं को यह सुहाता नहीं है, उन्हें सुभीता नहीं लगता है। हर एक वर्ण का कैसा रहन-सहन होना चाहिए, उसके बारे में मनु ने 'मनु स्मृति' में कई विधान (निर्बंध) किये हैं। ये विधान (कायदे, निर्बंध) इतने अमानवीय हैं कि उन्हें तो वहीं दफ़न रहना (फक्त दफतरीच) चाहिए- ऐसी मानस प्रवृति है। ऐसे उदाहरणों से लगता है कि इन नियमों की सख्ती से पालना होती थी। अगर ऐसा नहीं होता तो आजकल इस प्रकार के वाकयात नहीं होते। अंग्रेजों के आने से भी इनमें कोई परिवर्तन/बदलाहट नहीं हुई। सर्वसाधारण भी यह बात समझता है कि अंग्रेजों के द्वारा बनाये गये दंड-विधान (penal code) से भी अपराध के दंड विधान के अलावा कोई परिवर्तन नहीं हो सका। परन्तु, दंड विधान के होते हुए भी स्पृश्य (सवर्ण) हिन्दू अस्पृश्यों को कैसे छलते हैं, वह इन उदाहरणों से स्पष्ट होता है।"

"सारी अस्पृश्य जनता के सामने यह बहुत बड़ा प्रश्न है कि इन बेगुनाह अछूतों को जुल्मों से छुटकारा कैसे मिले? इन जुल्मों से छुटकारा दिलाने में सरकार की कोई मदद मिलेगी- ऐसा मुझे लगता नहीं है। हालाँकि सरकार (अंग्रेज सरकार) हिन्दुओं के ताबे (वश-वर्चस्व) में नहीं है, फिर भी अंग्रेज सरकार उनकी परस्ती से ही चलती है। अगर ऐसा नहीं होता तो अस्पृश्यों को जागरूक करने के अपराध के कारण रा. आठवले को पुलिस द्वारा जान से मारा नहीं जाता। सवर्ण हिन्दू समाज अस्पृश्यों को सुख और चैन से रहने नहीं देता है, इससे तो अच्छा है कि वे दूसरे धर्म का अवलम्बन कर लें। अस्पृश्यों को सवर्ण लोग कांकन (सीमा पर या क्षण भर) पर भी देखना नहीं चाहते हैं। अर्थात थोड़ी देर के लिए भी बर्दाश्त नहीं करना चाहते हैं। वे (हिन्दू) उन्हें इत्मिनान से रहने नहीं देते हैं। इसका कारण यही है कि अस्पृश्यों का हिन्दू धर्म में कोई वजूद (दर्जा) नहीं है। अस्पृश्यों को अपना दर्जा बढाने के लिए सवर्णों से प्रमाण लेने के लिए जाने की जरुरत नहीं है। ऐसा धर्म छोड़ने (धर्मान्तरण करने) के अलावा अस्पृश्यों को अपना दर्जा बढ़ाने का कोई दूसरा मार्ग नहीं है। वल्हाड़ के रा. भीमसेन और रा. सूर्यभान ने अपने मन में जो धर्मान्तरण करने का विचार किया है, उससे अलग मैं आपको दूसरी सलाह क्या दूँ।"

(सन्दर्भ: आजकालचे प्रश्न: बहिष्कृत भारत, तारीख:04 नवम्बर, 1927)


MEGHnet  


Meghs in Global Encyclopedia of the North Indian Dalits- Ethnography

(This post is contributed by Sh. Tararam)

'Global Encyclopedia of the North Indian Dalits- Ethnography' में उत्तर भारत विशेषकर जम्मू-कश्मीर आदि क्षेत्रों में बसे मेघों के बारे में निम्नलिखित विवरण है-



"MEGH"
Demography-
"The megh claim an ancient origin and they seem to be the original inhabitants of the Jammu region and the owners of land in this tract. They are distributed in the state of Jammu and Kashmir, HimachalPrades, Chandigarh and punjab...They are predominantly found in Rural Areas. Their major concentration is in Jammu, Rabisinghpura, and Akhnoor tehsil of Jammu. They are also concentrated in Ambala, Kurukshetra, Rohtak and Hissar in Haryana. They are also found in all districts of Punjab but their major concentration is in the district of Gurdaspur and Ferojpur. The Megh in Himachal Pradesh are mostly confined to lower hill ranges of Kangra, adjoining Punjab and to some extent to the Chamba district."


Settlement:
"The Meghs are inhabitants of the plains and hills between the Ravi and Chenab rivers, except Akhnur which lies to the west of the latter river. Over 60% of them live in the fertile plain irrigated by canals and kuhis (water ducts), whereas 20% of inhabit the high forest covered tract to north and northeast of Jammu. They are found distributed over the dry kandiliaa also. Inspite of difference of natural environment, there is practically no difference in their life pattern."
Dress Ornament:
"The members of community do not wear any distinctive dress or marker but like general Hindu Classes-----------.The state government has now accorded them constitutional status of a Scheduled Caste and they have been enjoying special benifit and privileges under the provisions-------------"


Food and Drinks:
"The Megh, except their sub caste Basith, used to eat flesh of dead animals, but by a contract or decision signed in 1879 through the influence of their Guru of Keran in Jammu tehsil, who had been religious head of the Megh community, they pledged total abestation from it. A breach of this agreement made a man liable to pay Rs.25/ to the government, Rs.5/- to the head of village and a some fixed according to the means of offender, as a penalty to the biradari. In default of payment, he was liable to be excluded from the Megh community. With this change, the Meghs are becoming vegetarian like other Hindu communities. Their womenfolk usually, and men on certain occasions avoid taking non-vegetarian diet. Rice and wheat and makkie (Maize) from their staple food, pulses, particularly mah and masur and all type of vegetables are now available to them in villages. They have no particular liking for alcoholic drinks, but occasionally indulge in it publicly on festive occasions, as such birth of son, marriage, fairs and festivals. They used country made alcoholic drinks and did not have any prejudice against preparing at home. Now the spread of modern ideas in community and as result of constitutional benefits the community has come out of much of its backwardness and adopted food habits as in all the other Hindu Communities of the state."


History of origin-
"They believe to have migrated from Jammu to which they originally belonged four to five hundred years ago. Due to change in ruler, they migrated to different neighbouring areas. It is said that Raja Barar of Akhnoor gave them land but, owing to attacks during Sikh rule they migrated to the hills, west Punjab, Rajasthan, Punjab and Harysna. Those who stayed back became Muslims and are known as Dindaur. The local chronicles of Jammu support this view and they are stated to be the original occupants of Jammu territory before migrating Jamwal ruling clans ousted them from power and subjugated them. This according to the Jamwal Vanshavali, happened much before the Christian Era. In some details, the Megh traditions support their close connection with Jammu region since a hoary past."


Social System: Kinship-
"The community is divided into different clans like Bakarwal, Gandhi, Tindu, Chopre, Batten, Kale, Kunmunde, Gotre, Tilar, Gidar, Tilchate, Bhardwaj, Pachada, Malhotra, Singotra. They are further divided into Hindu Megh and Sikh Megh. The basis of differentiation is religious and the chief function of this class or gotras is to regulate marriage alliances. They consider themselves equal to Julaha or Kabirpanthis and superior to Chura, Chamar, Deha and other S/Cs. They are inferior to Brahman, Rajput and other caste Hindu. They are aware of the Varna System and recognize their place in it as Shudra. Others also consider them of low status as that of Julaha. Many consider them Julaha only."


Marriage and Divorce-
"They are endogamous at community level and exogamous at village, and at gotra level. The village exogamy is not strictly observed now. Earlier four gotras were avoided like that of self, mother's, paternal and maternal grandmother. But now only the self gotra is avoided. Marriages are negotiated by the elders, when the boy attains the age of around eighteen years and the girl is around sixteen years. Monogamous form of marriage are prevalent. Sindur, bindi and bangles are the symbols of marriage. Kanyadan exists and dowry is given in the form of household articles and some cash. Rule of residence is patrilocal."


"The Divorce is traditionally not allowed. The young widow and widower are allowed to remarry in case of willing and young individuals. Junior levirate and junior sororate are permissible. There is no proper marriage in this regard and is called Bethana. Change of marriage rule is observed in leaving self gotra only, increase in marriage age and non observance of marriage symbols strictly. The marriage symbols are observed only during fairs, festivals, marriages and joyous occasions and family gatherings."
"Widow marriage is permitted. But the chance is limited to the deceased's elder or younger brother, failing which, she can, with the consent of her guardian, marry any belonging to the gotra of her husband, the man must bear all the experiences of marriage, or he must give his sister or daughter or any other near relative to some male member of the widow's household in exchange. When a widow declines to remarry, provision for the necessities of her life is arranged out of contributions made by biradari of the village and she is held in high esteem.


Family-
"The megh family is patrilocal in which proper reverence and respect and affiliations are observed according to the status of all members."


Occupational Activities-
"The Meghs are primarily an agricultural community. Formerly, they were owners of the land in this tract but, because of high handedness and oppressions of the ruling tribes, most of them have been deprived of large tract of agricultural land. Till recently, the Megh families were petty landholders, but majority of them had been rendered landless, though they still stuck to the agriculture occupation and mostly work as tillers and agriculture workers. However, recent agrarian reforms in the state and also as constitutional benefits, there has been much amelioration in their economic condition. Most of their families have received small agricultural lands and have purchased additional tracts."
"The land in the Megh family is owned, as in case of other Hindu communities of the area, by the eldest male of family, and is equally shared by all the sons after the death of their father or elder. In addition to working on their own fields, they work as farm labourers and tiller of the land. They receive wages both in cash and kind according to the nature of job or agriculture operations and in rearing cattles. They mostly work in their own or nearby villages, and there is limited mobility among them. Children and women help their manfolk in agriculture operations and in rearing cattle. Children of 14 or 15 years and above are sent out to earn wages. Previously the Megh men and women worked in the houses of the village zamidars and money landers against repayment of their own or ancestral debts. A limited type of bondage labour was prevalent in this region too. But since independence, conditions have undergone much changes and this has disappeared from this region."
"By profession the Megh are largly weavers and they profess to have learnt this craft from Kabir, the bhagat. The members of community are, therefore, sometimes addressed as Bhagat and some among them write Bhagat as caste with their names. They practised this craft as a part time work, in addition to agriculture and the older among them, when weakened by age, mostly confined their activities to weaving, but, of late, they have given up this craft as the Khadi is little in demand in the villages. Now the craft is revived and power driven handloom have replaced the older, out of date manual Khaddies. Being primarily a rural community, their economic activities are conditioned by the conditions prevailing in their respective villages."


(Reference:- "Global Encyclopedia of the North Indian Dalits- Ethnography---" Volume-1, pages- 445; 446; 448)

MEGHnet  

17 August 2014

Religion (a syndrome) - धर्म (रोग में अनेक लक्षणों का समावेश)

धर्म- अपहरणकर्ताओं के एक संगठन की तरह होता है जो युद्ध जैसी तैयारी के साथ आते हैं और आपको अचानक पता चलता है कि आप खतरे में हैं. वह आपको स्थिर रहने के लिए कहता है, हिलने पर एकाध को मार देता है. बीच-बीच में भोजन देता है, सवाल पूछने पर धमकाता, मारता-पीटता है. लंबी अवधि के दौरान वह अपने मतलब की चीज़ आपसे लेता है, कभी आपको त्यौहार की मिठाई देता है, उपहार देता है, आपकी कलाई में प्रेम-दोस्ती का धागा बाँधता है.......आप उसकी बातें मानने लगते हैं. समय बीतने के साथ आपको लगने लगता है कि आप उसकी निगरानी में सुरक्षित हैं और वह आपको मानवीय, अच्छा, अपना-सा और प्यारा लगने लगता है. आप भूल जाते हैं कि वास्तव में आप उसकी दहशत में जी रहे हैं.

(Stockholm syndrome की परिभाषा के संदर्भ में)

आप बहुत अच्छे हैं! मैं आपकी वंदना करता हूँ!!
MEGHnet  

11 August 2014

Sir Alexander Cunningham and Megh – सर एलेग्ज़ांडर कन्निंघम और मेघ

कुछ वर्ष पूर्व मैंने एक प्रहसन के रूप में मेघों का इतिहास लिखते हुए कल्पना की थी कि मेघों ने ही सिकंदर का रास्ता रोका था. मेरी कल्पना का आधार यह था कि उस क्षेत्र में तब मेघ बहुतायत से बसे थे. कुछ लोगों ने शायद पढ़ा हो, पता नहीं. लेकिन जिनसे मैंने इस बारे में बात की या प्रश्न पूछा उन्होंने कोई उत्साह नहीं दिखाया. लेकिन मुझे प्रहसन लिख कर संतोष हुआ.

कहते हैं कि इतिहास, इतिहासकार और कथाकार हमेशा रहते हैं. इस बीच राजस्थान से मेघवंश के इतिहासकार श्री ताराराम ने "मेघवंश:इतिहासऔर संस्कृति" नामक पुस्तक लिखी जो मेरी दृष्टि से मेघों का एक प्रामाणिक इतिहास प्रस्तुत करती है. उनसे एक दिन फोन पर बात करते हुए मैंने पूछा कि क्या जम्मू के पास झेलम, सतलुज के बीच के क्षेत्र में मेघों का सिकंदर से कोई सामना नहीं हुआ? उन्होंने कहा कि सर एलैग्ज़ांडर कन्निंघम ने ऐसे संकेत दिए हैं. मैंने बहुत कोशिश की लेकिन मुझे कन्निंघम की पुस्तक नहीं मिली. कर्नल तिलक राज (Col. Tilak Raj) और श्री आर.एल. गोत्रा (R.L. Gottra) जी से भी बात हुई. इतना मालूम पड़ा कि सर कन्निंघम की पुस्तक में मेघों का उल्लेख है.

कुछ दिन पूर्व ताराराम जी ने कन्निंघम की पुस्तक का वह अंश फेसबुक पर शेयर किया और मुझे भी अग्रेषित कर दिया. एक लिंक भी भेजा. पहली बार मुझे वे अंश पढ़ने को मिले और मैं अपनी खुशी को रोक नहीं पाया. सबसे पहले मैंने उसे www.meghnet.blogspot.com पर बनाए पृष्ठ HistoriansTell-2 पर शामिल किया और अलग से एक ब्लॉग लिखने की तैयारी शुरू कर दी. मेरी कल्पना के घोड़े बहुत जंगली हैं और जब वे हिनहिनाते हैं तो मैं दौड़ने लगता हूँ. घोड़ों पर मेरा वश नहीं लेकिन दौड़ने पर है.

कन्निंघम ने जो लिखा है वह ज़रा पुरानी अंग्रेज़ी में लिखा है और उस विद्वान ने ग्रीक और अन्य भाषाओं के ऐसे कई शब्द भी प्रयोग किए हैं जिन्हें सही प्रतिनिधि ध्वनि के साथ देवनागरी में लिखना मेरे लिए कठिन था इसलिए उनके आगे (कोष्ठकों में) उनकी अंग्रेज़ी वर्तनी (spellings) दे दी है. कन्निंघम ने क्या कहा है उसका एक लगभग स्वतंत्र अनुवाद नीचे दिया है.

Sir Alexander Cunningham (23 January 1814 – 28 November 1893)
"मेघ
सामाजिक स्थिति में समान कमतरी (similar inferiority) वाले टकों (Takkas) से जुड़ा एक कबीला मेघों का है जो रियासी, जम्मू और अख़नूर की जनसंख्या का बड़ा हिस्सा है. जम्मू के राजाओं के अभिलेखों और रिकार्ड (annals) के अनुसार गुलाब सिंह के पूर्वज दो राजपूत भाई थे जो पृथ्वीराज की पराजय के बाद टोही या टोहवी (संभवतः तवी के लिए प्रयुक्त शब्द) नदी (Tohi or Tohvi river) के किनारे मेघ कहलाने वाले गरीब काश्तकार (cultivators) वंश में बस गए. मिस्टर गार्डनर ने उन्हें निम्न जाति का निर्धन वंश कहा है, लेकिन वे टकों के मुकाबले संख्या में अधिक हैं. एक अन्य जगह वे उन्हें बहिष्कृतों की निम्नतम जमात में रखते हैं; लेकिन यह मेरी सूचना के विपरीत है, इसके अलावा यह उसके उस वर्णन से भी मेल नहीं खाता जिसमें उसने उन्हें "काश्तकार" कहा है. यदि वे टकों के समान नहीं हैं तो उनसे बहुत कमतर (inferior) भी नहीं हैं. मैं उनका मध्ययुगीन नाम ढूँढने में असफल रहा हूँ, लेकिन मुझे यकीन है कि हम विश्वसनीय रूप से उन्हें आर्यों के मेकी (Mekei) के तौर पर पहचान सकते हैं, जो सारंगीज़ (Saranges) नदी के किनारे उसके हाइड्राओटीज़ (Hydraotes) के संगम के पास रहते थे. इस नदी की अभी पक्की पहचान नहीं हुई है, लेकिन क्योंकि इसका उल्लेख हाइफेसिस (Hyphasis) या ब्यास के तुरत बाद में हुआ है, इसे सतलुज होना चाहिए. संस्कृत में सतलुज को शतद्रु (Satadru), या "शतधारा)" (hundred channeled) वाली, कहा गया है. यह ऐसा नाम है जो टोलेमी के ज़राड्रस (Ptolemy's Zaradrus) और प्लिनी के हेज़ीड्रस (Pliny's Hesidrus) को ठीक-ठाक तरीके से दर्शाता है क्योंकि संस्कृत का 'शत' कई पश्चिमी बोलियों में 'हत' बन जाता है. इसके ऊपरी मार्ग में इसका नाम शत्रुद्र या शतुद्र (Satrudr or Satudr) है जो संस्कृत के 'शतद्रु' का ही बिगड़ा हुआ और सामान्यतः बोला जाने वाला रूप है. तथापि कई ब्राह्मण शतुद्र को सही मानते हैं यद्यपि वे इसे "सौ उदर" (पेट) (hundred-bellied) वाले अर्थ से जानते हैं, तब इसका नाम 'शतोदर' होना चाहिए था. अब एर्रियन का सारंगीज़ (Arrian's Saranges) प्रत्यक्षतः इन विभिन्न शब्दों के साथ जुड़ा है जैसे शतांग (hundred divisions), शतांग (hundred parts) जिसका अर्थ है सौ विभाजन या सौ अंग, जो सतलुज के पर्वतीय क्षेत्र छोड़ने के बाद कई धाराओं में बँटने का संकेत देता है. इस पहचान के अनुसार मेकी, या प्राचीन मेघ, सिकंदर के आक्रमण के समय ज़रूर सतलुज के किनारों पर बस चुके थे. इस स्थिति की पुष्टि में, मैं मेगारसस (Megarsus) का नाम ले सकता हूँ एक नाम जो डियोनाइसिअस पेरीगिटीज़ (Dionysius Periegetes) ने सतलुज को महान और तीव्र के विशेषणों के साथ दिया था.* ऑइनस (Aoienus) ने नाम को बदल कर सिमेंडर (Cymander) कर दिया, लेकिन क्योंकि प्रिसियन (Priscian) ने बिना बदलाव के इसे सुरक्षित रखा, इससे लगता है कि हमें माइकेंडर (Mycander) को पढ़ना चाहिए, जिसने इसे मूल नाम डियोनाइसियस (Dionysius) के साथ समावेशित किया. अवीनस (Avienus) ने जो भी लिखा हो, इसकी संभावना सबसे अधिक है कि हमारे पास मेघ कबीले का नाम डियोनाइसियस (Dionysius) के मेगारसस (Megarsus) नदी में सुरक्षित है. दोनों नामों की आपस में तुलना करने पर, मेरे अनुसार संभव है कि मूल शब्द मेगान्ड्रोस (Megandros) हो जो संस्कृत के शब्द मेगाद्रु, या मेघों का दरिया, के समतुल्य होगा. अब सतलुज के इसी भाग में, जहाँ यह दरिया पर्वतों से बाहर आता है, हम मखोवाल (Makhowal) शहर पाते हैं, मख या मेघ कबीले (Makh or Magh tribe) का शहर, कमतर स्थिति वाले किसानों की जमात, जो खुद को राजा मुख-तेसर (Mukh-tesar), एक सरसुती ब्राह्मण और मक्का का राजा (Sarsuti Brahman and King of Mecca), का परवर्ती मानते हैं. उसी से सहारिया (Sahariya) निकला, जिसे अपने बेटे साल (Sal) के साथ अरब (Arabia) से निकाल दिया गया था और वह पुंड्री द्वीप (Island of Pundri) में आ गए थे; अंततः वे बरारा, जो भठिंडा के पश्चिम में है, में महमूदसर में आए और वहाँ सत्रह गाँव बसा लिए. उसके बाद वे और आगे आए और छुटपुट आव्रजन (immigraion) के बाद अब वे पटियाला, शाहबाद, थानेसर, मुस्तफाबाद, सधौरा और मुज़फ़्फ़रनगर में बस गए हैं.* इस वर्णन से हमें ज्ञात होता है कि मेघों की पूर्वतम स्थिति बठिंडा के पश्चिम की ओर, अर्थात सतलुज के किनारे पर थी. किस काल में वे इस स्थान से गए वे नहीं जानते; लेकिन यदि, जैसा कि बहुत संभव लगता है, मगियास (Magiaus) जिनका यमुना और गंगा के किनारे तैमूर (Timur) से सामना हुआ वे मघ ही थे, सतलुज के किनारों से उनका जाना तुलनात्मक रूप से उससे पूर्व ही हुआ होगा. चिनाब के मेघों की परंपरा के अनुसार उन्हें पहले पहल आए मुहम्मदनों (Muhammadans) ने मैदानी इलाकों से खदेड़ा था, एक ऐसा बयान जिसका संदर्भ हम ग्यारहवीं शताब्दी के शुरू में महमूद के अतिक्रमण से या उसके क़रीबी उत्तराधिकारियों के लाहौर पर अंतिम कब्ज़े से ले सकते हैं.

(मूल पाठ में कन्निंघम ने निम्नलिखित से संदर्भ दिए हैं)

* Orljis DcsLTi1itio, V. 1145.
• Smith's Rcv1ning Family of Lahor, p. 232, and Appendix p. xxix. In the text he m.'iti* the " Tukkers" Hindus, but in the Appendix he calls the " Tuk" a " brahman caste." The two names are, however, most probably not the same. t Ibid, pp. 232, 201, and Appendix p. Xxix."

जम्मू,  राजस्थान, गुजरात के मेघ, मेघवाल, मेघवार

मेरे नोट्स

1. मैंने इस ब्लॉग में नेट पर के जो लिंक दिए हैं उनकी रचना कन्निंघम के बहुत बाद में की गई है. (all links retreived on 7-08-2014 and 09-08-2014)

2. मेघ, मेघवाल, मेघवार, मेग, मेगी, मेंग, मेंगवाल, मेघवंशी(बंसी), मींग, मेख, मेक, मेकी, मेखो, मखु, मल, मल्ल, मल्ली, मल्लो, मेगोस, मेगस (Magus), मघ, मागस, मेगारसस, मेदिया, मेदीज़ या मेडी, मद्र, मल्लोई, मालव आदि एक ही शब्द की विभिन्न क्षेत्रों और भाषाओं में की गई यात्राओं के इतिहास की संभावनाओं से युक्त हैं. इन शब्दों के अनेक स्थानीय या परंपरागत स्वरूप होंगे जो इतने अलग स्वरूप के हो सकते हैं जो शायद इनसे मिलते जुलते भी न दिखें जैसे भांबी, भगत, कबीरपंथी, रिखिया, आदि. इनके अंतर्संबंधों की खोज हमेशा होनी चाहिए. कन्निंघम ने उसी का प्रयास किया है, ताराराम जी ने किया है, आर एल गोत्रा जी ने किया है.

3. कन्निंघम ने जिस 'Muhammadans' शब्द का प्रयोग किया है उसका अनुवाद करते हुए एक बार मैं 'मुसलमान' लिख गया. बाद में ग़लती का अहसास हुआ. अब यह काफी स्पष्ट हो चुका है कि भारत की दलित जातियों के जिन लोगों ने इस्लाम स्वीकार किया अधिकतर वे ही मुसलमान कहलाए. अन्य बहुत कम हैं.

4. कन्निंघम ने पृथ्वीराज के समय के मेघों को काश्तकार (cultivators) कहा है. लेकिन उसके वर्णन में यह नहीं आया कि वे भूमि के मालिक थे. वहाँ स्पष्ट नहीं होता कि उस समय उनके पास भूमि खरीदने और रखने का अधिकार था या नहीं. संभवतः उनके भूमि स्वामित्व का अधिकार बाद के समय में छीना गया था जो स्वतंत्रता के बाद पुनः दिया गया.

5. कन्निंघम ने अपने अध्ययन के बल पर विश्वास के साथ इस बात को कहा है कि मेघों को आर्यों के मेकी के तौर पर पहचाना जा सकता है. थोड़ा आगे चल कर उसने मेघों को सुरसती (सारस्वत) ब्राह्मण भी कहा है. उल्लेखनीय है कि सारस्वत ब्राह्मण, ब्राह्मणों की कई अन्य शाखाओं से निम्नतर माने जाते हैं. दक्षिण भारत में गौड़ सारस्वत ब्राह्मण भी हैं लेकिन उत्तर भारत के गौड़ ब्राह्मण उन्हें अपने समान नहीं मानते. लेकिन आश्चर्य नहीं कि मेघों के अल्पजानकारी वाले और अत्यल्प मौखिक इतिहास में और अन्य के द्वारा भी यह कहा गया है कि मेघों के रीति रिवाज़ ब्राह्मणों से मिलते-जुलते हैं हालाँकि अन्य ने ऐसा तभी कहा जब मेघों को सरकारी सहायता से वंचित कराने की नीयत थी. कोई उन्हें ब्राह्मण जाति का मान कर पेश नहीं आता था बल्कि उनके साथ अमानवीय व्यवहार होता था.

6. कन्निंघम ने कहा है कि मेघ सतलुज के किनारों से हो कर जमुना-गंगा के किनारों पर कब बसे, मेघ/मेद यह नहीं जानते. प्राप्त जानकारी के अनुसार तैमूर से उनका सामना सन् 1398 के आसपास हुआ होगा जब उसने दिल्ली पर आक्रमण किया था. कन्निंघम ने विचार प्रकट किया है कि मेघों का यह पलायन तैमूर के आने से काफी पहले हो चुका था. यह सही लगता है. यहाँ उल्लेखनीय है कि मेदों और जाटों का एक संघर्ष सिंध/बलोचिस्तान के क्षेत्र में हुआ था जिसे आप इस लिंक पर देख सकते हैं- Meds. यह लिंक 'जाटलैंड विकि' का है. यद्यपि आँख मूँद कर इसे अंतिम तथ्य के रूप में स्वीकार नहीं किया जा सकता क्योंकि, इसके नाम से ज़ाहिर है इसके कई या कुछ अंश 'आत्मगौरव (self pride)' के लिए भी लिखे हो सकते हैं जिसमें अन्य को तथ्यात्मक प्रतिनिधित्व देने का प्रयास हो यह ज़रूरी नहीं. मोटे तौर पर यह मेघ-जाट संघर्ष सन् 1026 से पहले ही हुआ होगा क्योंकि इसे रिकार्ड करने वाली संदर्भित पुस्तक का पर्शियन अनुवाद 1026 में हुआ था. अतः स्पष्ट है कि मेघ-जाट संघर्ष तैमूर के आगमन से पूर्व की घटना है और संभावना बनती है कि उसके बाद ही मेघ दिल्ली-मेरठ के पास जमुना-गंगा के क्षेत्र में गए होंगे.

7. कन्निंघम ने जिस 'पृथ्वीराज' का उल्लेख किया है उसका संदर्भ मुझे स्पष्ट नहीं हो पाया है.

8. जाँच करने की आवश्यकता है कि "मेगांद्रोज़ (Megandros)'  शब्द के 'मेघेंद्र' शब्द से से बने होने की कितनी संभावना है. 'मेघेंद्र' शब्द बुद्ध के लिए प्रयोग हुआ है जिसका अर्थ है 'मेघों का राजा'.

9. एक बात और ध्यान देने योग्य है कि कन्निंघम ने यदि जानकारियाँ प्राप्त करने के लिए पढ़े-लिखे स्थानीय लोगों की सहायता ली होगी तो उसके आसपास मुख्यतः ब्राह्मण ही उपलब्ध होंगे जिन्होंने एकतरफा इतिहास की सही-ग़लत जानकारी और सूचनाएँ उसे दी होंगी. शिक्षा का अधिकार न होने के कारण मेघों के अशिक्षित होने, उनका अपना लोक साहित्य लगभग न होने, इतिहास की कोई पुष्ट मौखिक परंपरा न होने के कारण कन्निंघम द्वारा रिकार्ड की गई जानकारी का विस्तृत, संतुलित और समुचित तथ्यों से युक्त होना संभव नहीं था.

10. कन्निंघम ने सतलुज के पास मेघों के बठिंडा के पश्चिम (पंजाबी में इसे 'लहिंदे पासे' कहा जाता है जहाँ आमतौर पर दलित बस्तियों का होना मान लिया जाता है) में बसे होने की बात कही है. संभावना है कि मेघ यहाँ से होते हुए राजस्थान में भी गए होंगे. फिरोज़पुर सहित इस क्षेत्र में मेघों को मेघवाल के नाम से भी जाना जाता है. मेघवाल शब्द का संबंध प्रकारांतर से कश्मीर के राजा रहे महामेघवाहन या मखोवाल से भी सकता है. ताराराम जी मानते हैं कि मेघवाल शब्द महामेघवाहन से निकला हो सकता है.

MEGHnet