"इतिहास-दृष्टि बदल चुकी है...इसलिए इतिहास भी बदल रहा है...दृश्य बदल रहे हैं ....स्वागत कीजिए ...जो नहीं दिख रहा था...वो दिखने लगा है...भारी उथल - पुथल है...मानों इतिहास में भूकंप आ गया हो...धूल के आवरण हट रहे हैं...स्वर्णिम इतिहास सामने आ रहा है...इतिहास की दबी - कुचली जनता अपना स्वर्णिम इतिहास पाकर गौरवान्वित है। इतिहास के इस नए नज़रिए को बधाई!" - डॉ राजेंद्र प्रसाद सिंह


15 April 2015

Anniversary of Baba Sahab Ambedkar - बाबा साहब अंबेडकर की जयंती

बाबा साहब अंबेडकर की 124वीं जयंती पर देश भर में 14-04-2015 को कार्यक्रम हुए. एक दिल्ली में भी हुआ. हर साल होता है लेकिन मुझे पता तक नहीं था. पूरी तरह एक तरफ झुके हुए मीडिया को यह उत्सव कभी नज़र नहीं आया. इतने बड़े उत्सव को पहली बार कवर करने के लिए NDTV के रवीश कुमार को बहुत धन्यवाद. आप भी देखिए. लिंक हाज़िर है. -



No comments:

Post a Comment