30 January 2011

There is lot in a name, dear brother - नाम में बहुत कुछ रखा है भाई साहब

समय बदल चुका है. मेघवंशी अब बच्चों के नाम नई परंपरा के अनुसार रखने लगे हैं. कभी-कभी बारू, थोड़ू, सोमी, वीरू जैसे बिगड़े हुए नाम मिलते हैं. जातिगत नाम लगाने की भी परंपरा है. मेघवाल, मेघवार, मेघ, आदि सुसंस्कृत नाम जोड़ने में कोई हर्ज़ नहीं.

बच्चों का एक ही नाम रखें. नाम को बिगाड़ें नहीं. गाँव का नाम सुंदर-अर्थपूर्ण हो तो जोड़ लें अन्यथा रहने दें. बुनकर, जुलाहा जैसे पुश्तैनी कार्य को अपनी पहचान के तौर पर साथ लिखा जाता है. मेघवंशियों को यह परंपरा तुरत छोड़ देनी चाहिए क्योंकि पुश्तैनी कार्य पीछे छूट रहे हैं. अपने नाम के साथ ऋषि गोत्र, सिंह आदि लगाएँ. दास आदि शब्दों को हर प्रकार से दूर रखें.

संक्षेप में सुंदर, अर्थपूर्ण और अच्छी बात मन पर बैठाने वाला नाम रखें. इससे बच्चे बड़े होकर बेहतर कार्य करेंगे.
Linked to MEGHnet