15 May 2014

Capitalism and Manuvad - पूँजीवाद और मनुवाद


भूखे व्यक्ति का खाने की चीज़ चुराना कानून के विरुद्ध है लेकिन सारे गोदाम खाने की चीज़ों से भरे होने पर भी किसी को भूखे मरने देना पूरी तरह से कानूनी है.
इसे आम तौर पर 'पूँजीवाद' कहा जाता है. इसकी 'अति' ही संपत्ति का पूर्णाधिकार (absolute right to property) है. भारत में इसका नाम 'मनुस्मृतिवाद (मानव धर्म)', एक तरह का 'सामंतवाद' है. अब यह इस बात पर निर्भर करता है कि जनता इस व्यवस्था के विरुद्ध कितनी असरदार आवाज़ उठाती है और आने वाली सरकारों से नीतियाँ बदलवाती है.

MEGHnet

No comments:

Post a Comment